विज्ञापन
विज्ञापन
कार्यक्षेत्र में सफलता के जानें विशेष योग, आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली !
Kundali

कार्यक्षेत्र में सफलता के जानें विशेष योग, आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

बच्चों के यौन उत्पीड़न का मामला, आज फिर सीबीआई और बचाव पक्ष अदालत की शरण में, न्यायिक हिरासत में जेल में रहेगा आरोपी

बच्चों के यौन उत्पीड़न के चर्चित मामले में आरोपी निलंबित जूनियर इंजीनियर को लेकर मंगलवार (पहली दिसंबर) को एक बार फिर सीबीआई और आरोपी के अधिवक्ता अदालत में आमने-सामने होंगे। दोनों ही पक्ष अपने दावे या शिकायतें पेश कर सकते हैं।

सीबीआई अदालत को यह भी बता सकती है कि चार दिन तक रिमांड में अपने साथ रखकर आरोपी से क्या-क्या साक्ष्य जुटाए? उधर, जेल में आरोपी को आइसोलेशन सेल में तन्हा रखा गया है। फिलहाल अन्य कोई बंदी उसके साथ नहीं है।

आरोपी रामभवन को सीबीआई ने लगभग पौने 74 घंटे रिमांड पर अपने साथ रखने के बाद रविवार को दोपहर वापस यहां जेल में लाकर दाखिल कर दिया। रविवार और सोमवार को अदालत बंद थी। अब मंगलवार को पुन: रिमांड की पेशी होगी।
... और पढ़ें
जेई रामभवन जेई रामभवन

विधान परिषद शिक्षक-स्नातक चुनाव आज, सुबह आठ से शाम पांच बजे तक डाल सकेंगे वोट, ड्रोन से होगी निगरानी

विधान परिषद के लिए मेरठ-सहारनपुर शिक्षक और स्नातक सीट के चुनाव के लिए मतदान मंगलवार को होगा। मतदान सुबह आठ बजे से शुरू होकर शाम पांच बजे तक चलेगा। चुनाव संपन्न कराने के लिए 107 पोलिंग पार्टियां सोमवार शाम तक मतदान स्थलों पर पहुंच गईं। स्नातक सीट पर 30 व शिक्षक सीट पर 15 प्रत्याशी मैदान में हैं। स्नातक के लिए सफेद व शिक्षक के लिए गुलाबी बैलेट पेपर होगा 

सोमवार सुबह रवाना की गई पोलिंग पार्टियों को उनके नंबर के हिसाब से मतदान सामग्री धातु की पत्ती, सुई, सेफ्टी पिन, लचीले तार के टुकड़े, मोमबत्ती, लाखबत्ती, सुतली, बांसी कागज, सादा कागज, गत्ते, मेडिकल किट आदि दी गई। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया गया। प्रशासन भी कोविड-19 की गाइडलाइन का पालन कराने में लापरवाह दिखा। 

मेरठ में स्नातक के लिए 77 और शिक्षक के लिए 30 बूथ बनाए गए हैं। 107 पोलिंग पार्टियों में एक पीठासीन अधिकारी के साथ तीन मतदान अधिकारी हैं। इस मौके पर प्रेक्षक आईएएस सत्येंद्र कुमार सिंह व जिलाधिकारी के. बालाजी ने विक्टोरिया पार्क का निरीक्षण किया।

कुल स्नातक मतदाता - 2,97,320
कुल शिक्षक मतदाता - 33,040
मेरठ में शिक्षक मतदाता - 5,452
मेरठ में स्नातक मतदाता - 60,204

स्नातक क्षेत्र से प्रत्याशी (30)
दिनेश कुमार गोयल (भाजपा), हेम सिंह पुंडीर (माध्यमिक शिक्षक संघ), जितेंद्र कुमार गौड़ (कांग्रेस),  शमशाद अली (सपा), अकबर शर्मा, अजय गौतम, अतुल्य कुमार, अफरोज खान, अमित भारद्वाज, अर्चना शर्मा, आशाराम निमेष, डॉ. उर्मिला राजपूत, ऊषा चंद्रा, कंवलजीत सिंह, जितेंद्र कुमार, जितेंद्र कुमार चौहान, दिनेश कुमार गुप्ता, प्रदीप कुमार, प्रिंस कंसल, मानवीर सिंह, राहुल कुमार, ललित कुमार राणा, विद्या गौतम, श्रीभगवान शर्मा, सुनील कुमार त्यागी, सुरेंद्र पाल सिंह, सुशील कुमार सिंह, सेलकराम चौधरी, संजीव कुमार, डॉ. हरविंद्र कुमार (सभी निर्दलीय) 

यह भी पढ़ें: 
यूपी: धर्म परिवर्तन का दबाव बनाने पर दो युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज, ये है पूरा मामला
... और पढ़ें

हरियाणा-यूपी सीमा विवाद: बागपत के किसानों पर हमला, दस लोग घायल, पांच का अपहरण

पानीपत के खोजकीपुर के किसानों ने खादर में गेहूं की बुवाई करते यूपी के टांडा गांव के किसानों पर हमला कर दिया। हमले में 10 किसान घायल हो गए, जबकि पांच किसानों को हरियाणा के किसान उठाकर ले गए। घायलों को सीएचसी में भर्ती कराया गया है, दो की हालत गंभीर होने पर निजी अस्पताल में भर्ती कराया है। वहीं सीओ का कहना है कि पांचों किसानों को हरियाणा की पानीपत पुलिस ले गई है।

बागपत में सोमवार को टांडा गांव के यमुना खादर में आस मौहम्मद, याकूब, रिजवान, सुलेमान, शाहीन, रियाज, अब्बास व हाशिम सहित अन्य किसान अपने खेतों में काम कर रहे थे। इसी दौरान हरियाणा के पानीपत जिले के खोजकीपुर गांव के किसान धारदार हथियार लेकर पहुंचे और मारपीट करनी शुरू कर दी। रियाज, याकूब, शाहीन, रिजवान, ताहिर, निजामुदीन सहित 10 लोग घायल हो गए। 

सूचना पर एसडीएम दुर्गेश मिश्र, सीओ आलोक कुमार पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंचे। टांडा गांव के किसानों ने बताया कि हरियाणा के किसान पानीपत की बापौली थाना पुलिस व छपरौली पुलिस की मौजूदगी में गांव के सुलेमान, इलियास, आस मौहम्मद, हाकिम और अकबर का अपहरण कर ले गए हैं। देर रात तक मामले की रिपोर्ट दर्ज नहीं हो सकी थी।

यह भी पढ़ें: 
यूपी: धर्म परिवर्तन का दबाव बनाने पर दो युवकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज, ये है पूरा मामला

दोनों गांवों के लोगों में भूमि विवाद को लेकर हाईकोर्ट में मामला चल रहा है। आए दिन मारपीट हो रही है। किसानों को अगवा नहीं किया गया है। बताया जा रहा है कि उन्हें बापौली पुलिस ले गई है। मामले की जांच की जा रही है। - आलोक कुमार, सीओ

नोट- इन खबरों के बारे आपकी क्या राय हैं। हमें फेसबुक पर कमेंट बॉक्स में लिखकर बताएं।

शहर से लेकर देश तक की ताजा खबरें व वीडियो देखने लिए हमारे इस फेसबुक पेज को लाइक करें


https://www.facebook.com/AuNewsMeerut/
... और पढ़ें

पीएम मोदी ने की चंदौली के जिस काले चावल की तारीफ, कुछ इस तरह शुरू हुई थी इसकी खेती

आरोपी गिरफ्तार
देव दीपावली पर वाराणसी के दौरे पर सोमवार को आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस काले चावल की खेती का जिक्र अपने भाषण में किया और किसानों की आर्थिक सशक्तता का आधार बताया। वह आज यूपी के चंदौली की पहचान बन चुका है। काले चावल की खेती की शुरुआत ठीक तीन साल पहले भाजपा की वरिष्ठ नेता मेनका गांधी के सुझाव पर प्रायोगिक तौर पर चंदौली जिले में की गई थी। आज जब पीएम मोदी ने तारीफ की तो स्थानीय किसान गदगद हो गए। 

दरअसल, केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी की पहल पर लगभग तीन वर्ष पहले जिले में मणिपुर की चाक हाउ (काले चावल) के बीज लाकर चंदौली जिले में खेती शुरू कराई गई। प्रशासन की पहल रंग लाई और सेहत के लिए अत्यधिक फायदेमंद काला चावल की डिमांड आस्ट्रेलिया तक पहुंच गई है। लगभग तीन वर्ष पहले केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी चंदौली दौरे पर आई।

अधिकारियों की बैठक के दौरान उन्होंने मणिपुर में पैदा होने वाले ब्लैक राइस के बारे में बताया। कहा कि यहां की मिट्टी इसकी खेती के लिए अनुकूल है। ऐसे में यहां इसकी खेती कराई जानी चाहिए। डीएम नवनीत सिंह चहल और तत्कालीन उपकृषि निदेशक आरके सिंह को यह प्रस्ताव अच्छा लगा।

2018 में उन्होंने मेनका गांधी के सहयोग से मणिपुर से 12 सौ रुपये प्रति किलो की दर से 12 किलो चाकहाउ के बीच लाकर यहां के 12 किसानों को खेती के लिए दिया। परिणाम बेहतर मिला और किसानों की आय बढ़ाने के लिए शुरू किए गए इस प्रयोग का फायदा जिले के किसानों को मिला। अच्छी ब्रांडिंग की वजह से किसानों को काला चावल का न सिर्फ अच्छा दाम मिला, बल्कि पूरे देश में पहचान भी हुई।
... और पढ़ें

पीएम मोदी ने मां अन्नपूर्णा की जिस मूर्ति के कनाडा से काशी आने की बात की, इस तरह हुई थी उसकी खोज

वाराणसी के दौरे पर सोमवार को आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन के दौरान मां अन्नपूर्णा की जिस मूर्ति के कनाडा से जल्द काशी आने की बात की कही। वो प्रतिमा 100 साल पहले अवैध तरीके से वहां गई थी। बीते 19 नवंबर को कनाडा के संग्रहालय में भारतीय कलाकार दिव्या मेहरा की नजर मूर्ति पर पड़ी तो उन्होंने इसका मामला उठाया। 

दरअसल, काशी के राजघाट पर दीपोत्सव के शुभारंभ के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे घटनाक्रम का जिक्र करते हुए कहा कि आप सबकी इच्छा मालूम है, 100 साल पहले मां अन्नपूर्णा की प्रतिमा अवैध तरीके से कनाडा चली गई थी। उन्हें वापस लाने के लिए तेजी से प्रयास किए जा रहे हैं। जल्दी ही मां अन्नपूर्णा अपने असली घर आएंगी। प्रतिमा को वापस लाना हमारी जिम्मेदारी है, क्योंकि यह मूर्ति काशी की धरोहर है। 
... और पढ़ें

पिंटू सेंगर हत्याकांड: वीरेंद्र पाल ने लगाई जमानत अर्जी, दो दिसंबर को होगी सुनवाई

PM Modi in Kashi: कुछ ऐसा रहा पीएम मोदी का काशी का दौरा, जानिए इससे जुड़ी हर एक बात

देव दीपावली के दिन आज काशी में इतिहास बन गया। पहली बार देश का कोई प्रधानमंत्री काशी की देव दीपावली में शामिल हुआ है। अन्य वर्षों की तुलना में आज काशी की भव्यता देखते ही बन रही थी। विभिन्न कार्यक्रमों में शामिल होने के बाद रात में 10:22 बजे पीएम वाराणसी एयरपोर्ट पहुंचे और यहां से दिल्ली के लिए रवाना हो गए। 

दोपहर 2.10 बजे वाराणसी एयरपोर्ट पहुंचने के बाद पीएम मोदी हेलीकॉप्टर से मिर्जामुराद के खजुरी पहुंचे। जहां उन्होंने जनसभा को संबोधित किया। इस दौरान सीएम योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे। पीएम मोदी ने कृषि कानून को लेकर विपक्ष को घेरा। जनसभा से पहले पीएम ने वाराणसी-प्रयागराज सिक्सलेन हाईवे का लोकार्पण किया। साथ ही उन्होंने कहा कि इससे किसानों को भी फायदा मिलेगा।



एमएसपी पर बोले पीएम मोदी
पीएम मोदी ने जनसभा में कहा कि मुझे एहसास है कि दशकों का छलावा किसानों को आशंकित करता है। लेकिन अब छल से नहीं गंगाजल जैसी पवित्र नीयत के साथ काम किया जा रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सिर्फ दाल की ही बात करें तो 2014 से पहले के 5 सालों में लगभग साढ़े 600 करोड़ रुपये की ही दाल किसान से खरीदी गई। लेकिन इसके बाद के 5 सालों में हमने लगभग 49,000 करोड़ रुपये की दालें खरीदी हैं यानी लगभग 75 गुना बढ़ोत्तरी। हमने वादा किया था कि स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश के अनुकूल लागत का डेढ़ गुना एमएसपी देंगे। ये वादा सिर्फ कागजों पर ही पूरा नहीं किया गया, बल्कि किसानों के बैंक खाते तक पहुंचाया है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X