विज्ञापन
विज्ञापन
कार्यक्षेत्र में सफलता के जानें विशेष योग, आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली !
Kundali

कार्यक्षेत्र में सफलता के जानें विशेष योग, आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

हरियाणा : किसानों के समर्थन में सांगवान खाप ट्रैक्टरों के काफिले के साथ आज करेगी दिल्ली कूच

तीन कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों के समर्थन में सांगवान खाप-40 भी उतर आई है। खाप से जुड़े हर गांव से किसान मंगलवार सुबह दस बजे ट्रैक्टरों में सवार होकर दिल्ली कूच करेंगे। सांगवान खाप के प्रधान एवं विधायक सोमबीर सांगवान प्रदर्शन की अगुवाई करेंगे। सोमवार को खेड़ी बूरा स्थित सांगू धाम पर हुई खाप की सर्वजातीय पंचायत में यह निर्णय लिया गया।

रोहतक में रविवार को हुई खापों की पंचायत में सांगवान खाप प्रधान सोमबीर सांगवान ने भी शिरकत की थी। इसके तुरंत बाद उन्होंने रविवार शाम ही खाप की कोर कमेटी की बैठक बुलाई, जिसमें सोमवार को खेड़ी बूरा गांव स्थित सांगू धाम में पंचायत करने का निर्णय लिया गया। सुबह करीब साढ़े 11 बजे खाप पंचायत हुई जो करीब दो घंटे चली।

पंचायत में कन्नी प्रधान, सरपंचों समेत अन्य मौजिज लोगों ने दिल्ली कूच को लेकर अपने सुझाव दिए। इसके बाद खाप पदाधिकारियों ने आपसी मंथन के बाद मंगलवार सुबह दस बजे दिल्ली कूच का एलान किया। इससे पहले खाप पंचायत को संबोधित करते हुए खाप सचिव नरसिंह डीपीई ने कहा कि किसान आंदोलन में सांगवान खाप-40 पूर्णतया साथ है। 
... और पढ़ें
विधायक सोमबीर सांगवान। विधायक सोमबीर सांगवान।

किसान आंदोलन : विज ने कहा- गतिरोध खत्म कर जल्दी करें वार्ता, आत्मसम्मान का न बनाएं मुद्दा

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने किसान आंदोलन पर कहा कि अब यह गतिरोध (डेडलॉक) खत्म होना चाहिए। धरतीपुत्र खेतों में काम करता हुआ ही अच्छा लगता है। इस मुद्दे पर जल्द वार्ता होनी चाहिए और इसे आत्मसम्मान का मुद्दा नहीं बनाना चाहिए।

हरियाणा और पंजाब के मुख्यमंत्रियों के बीच छिड़ी जुबानी जंग के मुद्दे पर भी विज ने प्रतिक्रिया दी। विज ने कहा कि पहले तो कैप्टन अमरिंदर सिंह कह रहे थे कि उन्हें फोन आया ही नहीं। अब कहते हैं मोबाइल पर नहीं किया फिर कहेंगे मुझे आकर जगाया नहीं। 

विज ने कहा कि कैप्टन साहब क्या आपका प्रशासन इतना नकारा है कि एक मुख्यमंत्री का फोन आता है और वो आपको बताता नहीं। इसका मतलब यह है कि आपका प्रशासन पर से नियंत्रण खत्म हो गया है। विज ने कहा कि यह कोई लड़ाई नहीं है, यह तो हमारे मुख्यमंत्री का धर्म बनता था कि अगर पंजाब से इतनी बड़ी संख्या में लोग आ रहे हैं तो उनके बारे में पंजाब के सीएम से बात करें। कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए बात करना जरूरी होता है।

अनिल विज ने नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र हुड्डा पर भी पलटवार किया। उन्होंने कहा कि हुड्डा हमेशा भड़काने वाली बात करते हैं। हरियाणा से गुजरने के दौरान कहीं भी लाठी नहीं चलाई गई। अब हुड्डा को कहां लाठी लगी इसका वो ही बता सकते हैं। विज ने राहुल गांधी पर तीखा जुबानी हमला बोलते हुए कहा कि उन्हें हर काम उल्टा ही नजर आता है। इन्हें उल्टा सुनता है और उल्टा बोलते हैं। चाहे कोई भी अच्छा काम कर लो उन्हें उल्टा ही नजर आएगा।
... और पढ़ें

हरियाणा में कोरोना से 27 और मौतें, मृत्यु दर बढ़ी, रिकवरी में सुधार, 1604 नए पॉजिटिव मिले

हरियाणा में कोरोना से 27 और मरीजों की मौत हो गई है, जिससे मृत्यु दर में बढ़ोतरी हुई है। यह दर 1.03 से बढ़कर 1.04 प्रतिशत हो गई है। इसके अलावा रिकवरी रेट भी धीरे-धीरे बेहतर हो रहा है। उधर, 432 मरीज ऐसे हैं, जिनकी हालत नाजुक बनी हुई है। ये मरीज ऑक्सीजन व वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं। गुरुग्राम में चार, फरीदाबाद में आठ, हिसार में चार, अंबाला में एक, पानीपत में तीन, रोहतक में दो, भिवानी में चार व फतेहाबाद में एक मरीज ने दम तोड़ दिया है।

संक्रमण के 1604 नए केस सामने आए हैं और 2120 मरीज ठीक हो गए हैं। उधर, हरियाणा में अब कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 234126 हो गई है। जिसमें 208422 मरीज ठीक हो गए हैं। 313336 मरीज अभी भी वायरस से ग्रस्त है। रिकवरी रेट बढ़कर 91.12 प्रतिशत पहुंच गई है, जबकि संक्रमण की दर 6.71 प्रतिशत है। प्रदेश में स्वास्थ्य महकमे ने 252582 मरीजों को मेडिकल सर्विलांस के दायरे में रखा गया है। 83355 संदिग्ध मरीजों की सैंपल रिपोर्ट का इंतजार है।
 
  • जिला            नए संक्रमित मरीज        कुल संक्रमित मरीज        कुल डिस्चार्ज
  • गुरुग्राम                 494                       49606                       43049
  • फरीदाबाद              338                       40490                       36729
  • सोनीपत                110                       13028                       12211
  • हिसार                   102                       15726                       14160
  • अंबाला                   49                         10367                      9730
 
  •  करनाल                 34                          9683                         8981
  •  पानीपत                16                           9351                        8693
  •  रोहतक                 88                         10693                        9510
  •  रेवाड़ी                   40                          10340                       9639
  •  पंचकूला                18                           8697                        8062
  •  कुरुक्षेत्र                 44                           7713                       7191
  • यमुनानगर             48                           5635                       5324
  • सिरसा                   34                           7320                       6800
  • महेंद्रगढ़                 12                            6269                     6112
  • भिवानी                  32                          5625                      5250
  • झज्जर                 37                            5111                      4762
  • पलवल                 21                            3995                      3889
  • फतेहाबाद            19                              4280                     3905
  • कैथल                 18                              3411                     3220
  • जींद                  35                              3918                     3487
  • नूहं                    2                                1544                     1488
  • चरखीदादरी       13                               1324                       144
... और पढ़ें

सरकार किसानों पर दर्ज केस वापस ले और नेताओं को करे रिहा : भूपेंद्र सिंह हुड्डा

पूर्व मुख्यमंत्री और नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा कि हरियाणा सरकार किसानों पर दर्ज केस तुरंत प्रभाव से वापस ले और गिरफ्तार किए गए नेताओं को रिहा करें। यदि ऐसा नहीं हुआ तो कांग्रेस सरकार आते ही इन केसों को रद्द किया जाएगा। हुड्डा ने कहा कि लोकतांत्रिक तरीके से हर वर्ग को अपनी आवाज सरकार तक पहुंचाने का अधिकार है।

किसानों को गिरफ्तार कर या उन्हें झूठे मुकदमों में फंसाकर, उनकी आवाज को दबाया नहीं जा सकता। जिस तरह हरियाणा सरकार के आदेश पर पुलिस ने घरों में घुसकर सोते हुए किसानों को गिरफ्तार किया, वह निंदनीय है। हुड्डा ने किसानों पर आंसू गैस और वाटर कैनन के प्रयोग को गलत बताया। महामारी के इस दौर में कड़कड़ाती ठंड और खुले आसमान के नीचे अपना घर छोड़कर निकले किसानों पर ठंडे पानी की बौछारें बरसाना मामूली नहीं, बल्कि अमानवीय कार्रवाई है। 


मुख्यमंत्री को पता होना चाहिए कि बुजुर्ग और दिव्यांग किसान भी जिस आंदोलन का हिस्सा हों, उस पर आंसू गैस का इस्तेमाल कितना घातक साबित हो सकता है। किसान अपनी मांगों को लेकर दिल्ली जा रहे थे। वो हरियाणा सरकार से किसी तरह का टकराव नहीं कर रहे थे और ना ही वो हरियाणा में किसी तरह का धरना प्रदर्शन कर रहे थे। उनकी मांग केंद्र सरकार से थी। ऐसे में हरियाणा सरकार के पास कोई अधिकार नहीं है कि वो किसानों को अपनी राजधानी में जाने से रोके। बावजूद इसके सरकार ने किसानों को रोकने के लिए हर हथकंडा अपनाया।
... और पढ़ें

इंटरव्यू : सावधान! सर्दी में बढ़ी कोरोना वायरस की ताकत, लापरवाही बरती तो तेजी से फैल सकता है संक्रमण

भूपेंद्र सिंह हुड्डा (फाइल फोटो)
हरियाणा में कोरोना संक्रमण की दूसरी पीक चल रही है और यह पहली पीक की तुलना में अधिक घातक साबित हो रही है। पीजीआईएमएस रोहतक संक्रमण की शुरुआत से ही प्रदेश के लोगों को महामारी से बचा रहा है। कोविड अस्पताल के रूप में ट्रॉमा सेंटर रोजाना सैकड़ों मरीजों को उपचार दे रहा है। कोरोना संक्रमण की चल रही स्थिति और उससे निपटने को लेकर अमर उजाला के वरिष्ठ संवाददाता संजय कुमार ने पीजीआईएमएस रोहतक के निदेशक डॉ. रोहतास कंवर यादव से बातचीत की। उसके अंश:-

1. वैक्सीन का ट्रायल किस स्तर पर है? आम लोगों के लिए कब तक आने की उम्मीद है?
जवाब : को-वैक्सीन का ट्रायल तीसरे स्तर पर है। पहले स्तर पर 375 वालंटियर में 80 हमारे थे और दूसरे स्तर पर 380 वालंटियर में 60 हमारे थे। अब तीसरे स्तर पर 25800 को वैक्सीन दी जानी है, इसमें एक हजार को पीजीआईएमएस रोहतक वैक्सीन लगाएगा। सभी वालंटियर 18 से अधिक आयु वाले हैं। 

भारत बायोटेक, आईसीएमआर, नेशनल इंस्टीट्यूट वायरोलॉजी इस प्रोजेक्ट पर कार्य कर रहे हैं। तीसरे स्तर के ट्रायल में बीपी, शुगर, हार्ट व अस्थमा वाले वह मरीज, जिनकी बीमारी नियंत्रण में है, उनको वैक्सीन लगाई जा रही है। इसके अलावा हेल्थ केयर वर्कर को भी रिसर्च में शामिल कर लिया गया है। 1000 वालंटियर में पहले 200 सैंपल पूरे हो गए हैं। 42 दिन बाद एंटीबॉडी जांच के लिए सैंपल लिया जाएगा। एक साल में सात से आठ बार वालंटियरों को बुलाया जाएगा। सभी की एंटी बॉडी व कोरोना जांच की जाएगी। वैक्सीन मार्च 2021 तक आने की उम्मीद है।
... और पढ़ें

हाईकोर्ट का अहम फैसला-भूमि का मुआवजा बढ़ा तो इसके बदले मिलने वाले प्लॉट की बढ़ी कीमत पर आपत्ति क्यों

पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने एक अहम फैसले में स्पष्ट किया है कि यदि भूमि का मुआवजा बढ़ा है तो इसके बदले मिलने वाले प्लॉट की बढ़ी हुई कीमत को चुनौती नहीं दी जा सकती। हाईकोर्ट ने कहा कि जब मुआवजा बढ़ने से भूमि मालिक खुश हैं तो प्लॉट के दाम बढ़ने पर वह आपत्ति कैसे जता सकते हैं।

हरियाणा में विभिन्न स्थानों पर हरियाणा स्टेट इंडस्ट्रियल इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड द्वारा अधिगृहित की गई जमीन के बदले मिलने वाले विस्थापित कोटे के प्लॉटों की बढ़ी हुई कीमत को भूमि मालिकों ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। 


याचिकाकर्ताओं राजेंद्र कुमार, संजीव कुमार और धर्मवीर ने बताया था कि उन्होंने विस्थापित कोटे के प्लॉट के लिए 2013 में आवेदन किया था। आवेदन के अनुरूप उन्हें 1800 रुपये प्रति वर्ग मीटर के दाम पर भुगतान करने को कहा गया। 

इस बीच अधिगृहित की गई भूमि के मुआवजे को बढ़ाने के लिए दाखिल भूमि मालिकों की याचिकाएं मंजूर हो गई और मुआवजा राशि बहुत अधिक बढ़ गई। अक्तूबर 2020 में सरकार की ओर से उन्हें एक नोटिस भेजते हुए प्लॉट के लिए भी अब बढ़ी हुई राशि का भुगतान करने को कहा गया। प्लॉट का दाम अब 5350 रुपये प्रति वर्ग मीटर के अनुसार तय किया गया। 

याची ने कहा कि अब अचानक सात साल बाद इस प्रकार राशि को इतना अधिक बढ़ा कर कैसे इस राशि की वसूली की जा सकती है। हाईकोर्ट ने सभी पक्षों को सुनने के बाद हरियाणा सरकार के पक्ष में फैसला सुनाते हुए यह स्पष्ट किया कि जब मुआवजा बढ़ गया है तो प्लॉट के लिए बढ़ी हुई राशि का भुगतान करने में याचिकाकर्ताओं को आपत्ति नहीं होनी चाहिए। इस टिप्पणी के साथ ही हाईकोर्ट ने सभी याचिकाएं खारिज कर दी। 
... और पढ़ें

केंद्र-किसानों की तीन दिसंबर की बैठक पर संशय, लिखित प्रस्ताव न मिलने पर बोले किसान-कैसे होगी बैठक

पांच राष्ट्रीय राजमार्ग बंद करने की तैयारी में किसान, पंजाब के 30 और हरियाणा के 18 संगठन साथ

कृषि से जुड़े तीन कानूनों को रद्द कराने समेत अपनी मांगों को लेकर किसानों ने अब दिल्ली से जुड़े पांच नेशनल हाईवे से मोर्चाबंदी की तैयारी शुरू कर दी है। अगर सरकार से जल्द बात नहीं होती है तो सिंघु व टिकरी बॉर्डर के बाद जयपुर, मथुरा, बरेली हाईवे को रोकने का फैसला लिया गया है। 

किसानों का नेशनल हाईवे रोकने का फैसला केवल यहां तक ही सीमित नहीं रहेगा, बल्कि इनके बाद भी किसानों की मांगों को लेकर कोई सकारात्मक बात नहीं होती है तो अन्य हाईवे को बाधित कर दिया जाएगा। इस तरह से किसानों के आंदोलन का देशभर में असर पड़ सकता है और उससे सरकार के साथ ही आम लोगों की परेशानी बढ़ेगी।

कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली कूच कर रहे पंजाब के किसानों को रोकने के बाद से वह नेशनल हाईवे 44 के सिंघु बॉर्डर पर डेरा डाले हुए हैं। जहां पहले सरकार ने उनको रोकने के लिए कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की थी, वहीं अब किसानों को दिल्ली में जाने के लिए कहा जा रहा है तो वह नेशनल हाईवे 44 से हटने के लिए तैयार नहीं है। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X