विज्ञापन
विज्ञापन
कार्यक्षेत्र में सफलता के जानें विशेष योग, आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली !
Kundali

कार्यक्षेत्र में सफलता के जानें विशेष योग, आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

किसानों के बॉर्डर सील करने की धमकी के बाद पुलिस ने सुरक्षा बढ़ाई, हाई अलर्ट पर दिल्ली, बढ़ाई गई फोर्स

नए कृषि कानूनों के विरोध में किसानों की दिल्ली के प्रमुख पांच बॉर्डरों को सील करने की धमकी के बाद दिल्ली पुलिस हाईअलर्ट पर आ गई है। दिल्ली पुलिस ने दिल्ली के सभी बॉर्डरों पर सुरक्षा को सोमवार सुबह बढ़ा दिया। हर गाड़ी को चेक करने के बाद ही दिल्ली में प्रवेश करने दिया जा रहा है। 

दिल्ली के बॉर्डरों की सुरक्षा की कमान अब संबंधित रेंज के संयुक्त पुलिस आयुक्त ने संभाल ली है। दिल्ली पुलिस को सख्त आदेश है कि नई दिल्ली जिले में किसी भी किसान को घुसने नहीं दिया जाए। बॉर्डरों के अलावा नई दिल्ली जाने वाले मार्गों पर 24 घंटे चेकिंग की जा रही है। 

दिल्ली पुलिस आयुक्त एसएन श्रीवास्तव भी सुरक्षा व्यवस्था पर दिनभर नजर बनाए हुए थे। पुलिस आयुक्त बॉर्डर जाकर खुद सुरक्षा व्यवस्था का जायजा ले रहे हैं। पुलिस आयुक्त ने सोमवार शाम पांच बजे सभी वरिष्ठ अधिकारियों के साथ वीडियो क्रॉफ्रेंस के जरिए सुरक्षा व्यवस्था को जायजा लिया। 

किसानों ने रविवार को धमकी दी थी कि वह दिल्ली के अन्य बॉर्डर दिल्ली-जयपुर हाइवे पर धारूहेड़ा, बदरपुर बॉर्डर व गाजीपुर बॉर्डर समेत दिल्ली के प्रमुख पांच बॉर्डरों को जाम कर देंगे। दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि किसानों की धमकी को देखते हुए दिल्ली के सभी बॉर्डरों पर सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है। दिल्ली-गुरुग्राम रोड पर रजोकरी बॉर्डर पर रविवार तक जहां 30 से 40 पुलिसकर्मी तैनात थे। सोमवार को यहां पर पुलिसकर्मियों की संख्या को बढ़ाकर 80 से ज्यादा कर दिया गया है। साथ में पैरा मिलिट्री फोर्स के जवानों को भी तैनात किया गया है। रजोकरी बॉर्डर से दिल्ली आने वाले वाहनों को चेक करने के बाद ही दिल्ली में प्रवेश करने दिया जा रहा है। फरीदाबाद से आने वाले बदरपुर बॉर्डर पर भी 100 से ज्यादा पुलिस जवानों को तैनात कर दिया गया है। यहां पर पैरा मिलिट्री फोर्स की एक आधी कंपनी को लगाया गया है। कालिंदी कुंज बॉर्डर पर भी बेरीकेड्स लगाकर चेकिंग की जा रही है। 

इसके अलावा गाजीपुर, सिंघु व टिकरी बॉर्डरों पर भी सुरक्षा को बढ़ा दिया गया है। दिल्ली पुलिस की आधी फोर्स को इन बॉर्डरों पर तैनात किया गया है। यहां पर सोमवार को दिल्ली पुलिस की थाना पुलिस को अलावा अन्य यूनिटों के पुलिस अधिकारी व जवानों को तैनात किया गया। साथ ही हर बॉर्डर पर पैरा मिलिट्री फोर्स की कई-कई कंपनियां हर बॉर्डर पर तैनात की गई है। जिला डीसीपी के अलावा हर रेंज के संयुक्त पुलिस आयुक्त सुरक्षा व्यवस्था पर नजर रखे हुए थे। 
... और पढ़ें
किसान आंदोलन किसान आंदोलन

हरियाणा की खाप पंचायतों का किसान आंदोलन को समर्थन, आज करेंगे दिल्ली कूच

सिंघु बॉर्डर पर किसान संगठनों का दावा है कि हरियाणा की खाप पंचायतों ने किसान आंदोलन को समर्थन दिया है। खाप पंचायतें दिल्ली सीमा की तरफ कूच कर रही हैं। मंगलवार तक इनके पहुंचने का सिलसिला शुरू हो जाएगा। इसके बाद आंदोलन का विस्तार व मजबूती मिलेगी। किसान संगठनों ने चेतावनी दी है कि अगर सरकार ने उनकी मांगों को पूरा नहीं करती तो आंदोलन और भी तेज होगा।

सिंघु बॉर्डर पर सोमवा दोपहर बाद तक चली बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए भारतीय किसान यूनियन (हरियाणा) के गुरनाम सिंह चढूनी का कहना है कि सरकार ने हरियाणा में किसान आंदोलन को कुचलने के लिए कई मुकदमे दर्ज किए हैं। सिर्फ बैरिकेड तोड़ने पर किसानों और किसान नेताओं के खिलाफ 307 तक के मामले दर्ज हुए हैं। इस वक्त हरियाणा में आंदोलन चरम पर पहुंच रहा है। 100 से ज्यादा खाप पंचायतों ने आंदोलन को समर्थन दिया है। खाप पंचायतें दिल्ली कूच कर रही हैं। इनके सीमा पर पहुंचते ही आंदोलन मजबूत होगा। जब तक मांगे नहीं मानी जाती आंदोलन जारी रहेगा। अगर मांगे नहीं मानी गई तो इससे भी कड़ा कदम उठाना पड़ेगा।

दूसरी तरफ योगेंद्र यादव ने कहा कि इस आंदोलन के बारे में अलग-अलग स्रोतों से पांच झूठ फैलाए जा रहे हैं। यह भी पूरी तरह गलत हैं। योगेंद्र यादव ने सिलसिलेवार ढंग ने इनका खुलासा करते हुए कहा कि आज हर किसान का बच्चा जान रहा है कि आंदोलन को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।

किसान नेताओं का कहना है कि रविवार को उन्होने केंद्र सरकार का सशर्त बातचीत करने का प्रस्ताव रद्द कर दिया था। इसके बाद पता चला है कि गृहमंत्री की कई संगठनों से बातचीत हुई है। नेताओं ने आरोप लगाया कि भाजपा के मुंह में राम-राम व बगल मे छुरी है। यह पंजाब का सघर्ष नहीं है, पूरे देश का संघर्ष है। आंदोलन खेती से जुड़े हर व्यक्ति को सुरक्षित रखने के लिए है।
 
... और पढ़ें

दिल्लीः एक दिन में फिर 100 से ज्यादा लोगों की हुई मौत, 3726 नए संक्रमित मिले

कोरोना वायरस को लेकर एक बार फिर दिल्ली में 100 से भी ज्यादा लोगों की मौत दर्ज की गई है। सोमवार को दिल्ली स्वास्थ्य विभाग ने एक दिन में 3726 नए संक्रमित मरीज मिलने की पुष्टि की है। साथ ही 108 लोगों की संक्रमण के चलते मौत हुई है। इस बीच 5824 मरीजों को डिस्चॉर्ज भी किया गया। 

विभाग के अनुसार पिछले एक दिन में 50,670 सैंपल की जांच में 7.35 फीसदी कोरोना संक्रमित मिले हैं। पिछले 10 दिन में दिल्ली में कोरोना वायरस की मृत्युदर 1.91 फीसदी दर्ज की गई है। इसी के साथ ही दिल्ली में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 5,70,374 हो चुकी है जिनमें से 5,28,315 मरीज स्वस्थ्य हो चुके हैं। जबकि 9174 लोगों की मौत हो चुकी है। 

दिल्ली में अब तक 9.07 फीसदी संक्रमण दर है। फिलहाल 32,885 सक्रिय मरीज हैं जिनमें से 20,456 मरीज अपने अपने घरों में होम आइसोलेशन में हैं। दिल्ली में अब तक 62.88 लाख से भी ज्यादा सैंपल की जांच हो चुकी है। 

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार हर दिन कोरोना संक्रमित मरीज मिलने की वजह से दिल्ली में कंटेनमेंट जोन की संख्या भी बढ़कर 5552 हो चुकी है। राजधानी में अभी 10 हजार बिस्तर बड़े अस्पतालों में खाली हैं। जबकि 7306 बिस्तर कोविड केयर सेंटर में खाली पड़े हैं। 

दिल्ली में एक दिन पहले ही 68 लोगों की मौत हुई थी जोकि 7 नवंबर के बाद सबसे कम आंकड़ा था लेकिन 24 घंटे गुजरने के बाद एक बार फिर दिल्ली में संक्रमण से मरने वालों का आंकड़ा 100 से अधिक देखने को मिला है। पिछले 25 दिन की स्थिति देखें तो दिल्ली में ढ़ाई हजार लोगों की मौत हो चुकी है।
... और पढ़ें

खास खबर : दिल्ली देहात की बेटी को मिला मिस दिल्ली इंडिया वर्ल्ड 'ब्यूटी विद ब्रेन' का खिताब

काबिलियत के आगे बड़ी से बड़ी बाधाएं भी नतमस्तक हो जाती हैं। दिल्ली देहात की बेटी दीप्ती शेखावत ने इसका जीता जागता उदाहरण पेश किया है। जिन्होंने कोविड-19 महामारी के दौरान पहले ही प्रयास में दिल्ली इंडिया वर्ल्ड 'ब्यूटी विद ब्रेन' प्रतियोगिता अपने नाम कर ली है। भविष्य में वह मिस इंडिया और आगे मिस वर्ल्ड बनना चाहती हैं।

कंझावला निवासी दीप्ति शेखावत ने अलीपुर स्थित स्वामी श्रद्धानंद कॉलेज से इसी साल बीएससी स्नातक की पढ़ाई पूरी की है। अब उन्होंने भगवान महावीर कॉलेज आफ एजुकेशन सोनीपत में बीएड की पढ़ाई के लिए दाखिला लिया है। 22 वर्षीय दीप्ति ने बताया कि कोविड-19 महामारी के इस दौर में संपूर्ण लॉकडाउन के दौरान उन्हें दिल्ली में हो रही सौंदर्य प्रतियोगिता की जानकारी मिली। इस प्रतियोगिता में शामिल होने के लिए उन्होंने भी ऑनलाइन आवेदन कर दिया था। पिछले महीने 7 नवंबर को गुरुग्राम के एक होटल में इस प्रतियोगिता का आयोजन हुआ था। 

स्काईवाक प्रोडक्शन द्वारा आयोजित इस सौंदर्य प्रतियोगिता में बॉलीवुड और मॉडलिंग की दुनिया के कई दिग्गज मौजूद थे। मुख्य अतिथि बॉलीवुड अभिनेता अरबाज खान की मौजूदगी में दिल्ली की 100 से अधिक प्रतिभागियों ने अपनी सुंदरता के साथ-साथ अपनी बुद्धिमत्ता का भी परिचय दिया। जिसमें कंझावला की दीप्ति शेखावत अव्वल आईं। यह प्रतियोगिता जीतने के बाद दीप्ति बेहद उत्साहित हैं। उन्होंने निश्चय किया है कि अब वह मिस इंडिया और आगे मिस वल्र्ड प्रतियोगिता में भी हिस्सा लेंगी।

दीप्ति को हमेशा मां से मिली प्रेरणा
दीप्ति का मानना है कि महिलाएं किसी से कम नहीं है। पिता के गुजर जाने के बाद इकलौती दीप्ति को उनकी मां सीमा शेखावत ने अकेले दम पर पाल पोस कर बड़ा किया है। उनकी मां सीमा शेखावत एनडीएमसी में इंस्पेक्टर के पद पर तैनात हैं। दीप्ति ने बताया कि उन्हें अपनी मां सीमा शेखावत से हमेशा प्रेरणा मिलती है। सालों से उन्हें अकेले अपना ऑफिस और घर की जिम्मेदारियों को संभालते देखा है। अब वह सफलता की ऊंचाइयां छूना चाहती हैं। जिसके लिए उनकी मां ने दिन रात मेहनत किया है।
... और पढ़ें

किसान आंदोलन से चरमराई बाहरी दिल्ली की परिवहन व्यवस्था, दूसरे शहरों से आने वाले यात्रियों को अधिक परेशानी

दीप्ती बनीं मिस दिल्ली इंडिया वर्ल्ड 'ब्यूटी विद ब्रेन'
आंदोलनकारी किसानों की सीमाओं पर मौजूदगी और बॉर्डर सील किए जाने से बाहरी दिल्ली की परिवहन व्यवस्था चरमराती हुई नजर आई। स्थानीय बसों का आवागमन भी बुरी तरह प्रभावित हुआ। बॉर्डर तक पहुंचने के लिए लोगों को मेट्रो, बस, ऑटो, टैक्सी के बाद भी कई किलोमीटर पैदल चलना पड़ रहा है। इससे खासकर उन्हें अधिक दिक्कत हो रही है, जिनके साथ सामान अधिक है। शादियों का सीजन होने की वजह से एक से दूसरे शहर की ओर रुख करने वालों को अपने सामान के साथ गंतव्य तक पहुंचने में काफी मशक्कतें पेश आईं। दूसरा कोई वैकल्पिक इंतजाम न होने की वजह से यात्रियों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। 

सिंघु बॉर्डर से करीब एक किलोमीटर पहले बायपास की ओर से आने के लिए दो बसें तो खड़ी थी, लेकिन बताया गया कि आधे घंटे बाद जाएगी। बाहर जब इंतजार करने वालों की संख्या काफी अधिक हो गई तो कुछ लोगों ने ऑटो और टैक्स का सहारा लिया। कुछ लोग बचे तो उन्हें बाद में गंतव्य तक जाने के लिए बस में सीट मिली तो आगे बढ़ सके। 

आंदोलन की वजह से दिल्ली से आगे किसी अन्य शहर के लिए जाने वालों को मुश्किलें पेश आ रही हैं। खास तौर पर हरियाणा, पंजाब और हिमाचल प्रदेश के लोगों को। जिन्हें बेहद जरूरी काम है तो अलग अलग रास्तों से टैक्सी से किसी तरह पहुंच पा रहे हैं, लेकिन इसपर उन्हें 10 गुना तक खर्च करना पड़ रहा है। शाम के वक्त आउटर रिंग रोड पर भी शादियों की वजह से वाहन चालकों को जाम का सामना करना पड़ा।

ऑटो में यात्रियों की भीड़
बॉर्डर से कोंडली या दूसरे गांवों के लिए जाने वालों को भी काफी मुश्किलें पेश आईं। ऑटो में ठूस ठूसकर भरने की वजह से लोगों को काफी परेशानी झेलनी पड़ी, लेकिन मजबूरी में किसी तरह सफर करना पड़ा। 
... और पढ़ें

लामबंद होने लगे अलग-अलग प्रदेशों से किसान, खाप के साथ टैक्सी यूनियन ने भी दिया किसानों को समर्थन

संयुक्त किसान संघर्ष समिति के साथ अब केरल, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, राजस्थान सहित दूसरे प्रदेशों के किसान भी लामबंद होने लगे हैं। कृषि कानूनों की खिलाफ इकट्ठा हुए किसानों को हरियाणा की खाप पंचायत के बाद दिल्ली की टैक्सी यूनियन ने भी समर्थन का दावा किया है। किसानों के इस आंदोलन में धीरे धीरे दूसरे संगठन भी एकजुट होने लगे हैं ताकि केंद्र सरकार पर कृषि कानूनों को वापस लेने का दबाव बना सकें। किसान नेताओं ने सीमाओं पर सीमा सुरक्षा बलों की तैनाती को अफसोसजनक बताते हुए कहा कि बुराड़ी ग्राउंड में मौजूद किसानों को जब तक छोड़ा नहीं जाता है सरकार से बातचीत नहीं हो सकती है। 

भारतीय किसान यूनियन, हरियाणा के गुरनाम सिंह चढ़ूणी ने कहा कि उन्हें खाप पंचायतों का भी समर्थन मिल गया है। 100 से अधिक खाप पंचायतों के अलावा दूसरे संगठन भी लगातार किसानों के इस आंदोलन में शामिल हो रहे हैं। महाराष्ट्र से आए किसान नेता संदीप ने बताया कि उनके साथ 400 किसान आए हैं जबकि अभी भी रास्ते में सैकड़ों किसान अभी भी दिल्ली पहुंचने की तैयारी में हैं। ग्रामीण किसान मजदूर समिति रंजीत सिंह राजू ने बताया कि सैकड़ों किसान राजस्थान से पहुंच चुके हैँ और यह सिलिसला आगे भी जारी रहेगा। भाकियू के जगमोहन सिंह ने कहा कि भी सरकार की ओर से किसानों की अनदेखी पर चिंता जताते हुए कहा कि अपनी मांगों से पीछे हटने वाले नहीं हैं। 

आंदोलन को विफल करने की जारी है कोशिश
किसान नेताओं ने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार इस आंदोलन को असफल करने की लगातार कोशिशें कर रही है। इसलिए पंजाब के किसानों को आगे दिखाया जा रहा है ताकि इसे राष्ट्रव्यापी नहीं बताया जा सके। उन्होंने पंजाब और हरियाणा के किसानों की एकजुटता की सराहना करते हुए कहा कि अब कई राज्य जुड़ चुके हैं और सरकार के इस रवैये और झूठे वादों के विरोध में संगठनों, खाप के अलावा आम लोग भी किसानों के समर्थन में उतरने लगे हैं। 

मकसद पूरा कर ही लौटेंगे किसान
इस दौरान किसान नेताओं ने अपील करते हुए कहा कि किसान हमेशा से शांतिपूर्ण तरीके से रहे हैं और आगे भी विरोध का यही स्वरूप रहेगा। सरकार कैसे बर्ताव करें, सर्द रातों पर अपने घरों को छोड़कर जिस मकसद से आए हैं, पूरा होने पर ही घर लौटेंगे। 

टैक्सी चालकों से आंदोलन में शामिल होने की अपील 
टैक्सी यूनियन के बलवंत सिंह भुल्लर ने भी किसान आंदोलन को समर्थन देने की घोषणा करते हुए कहा कि उनकी भी मुश्किलें लॉकडाउन के दौरान काफी बढ़ गई हैं। लेकिन सरकार ने अब तक उनका साथ नहीं दिया। किसान देश के अन्नदाता अब सड़कों पर हैं समर्थन में सभी टैक्सी, ऑटो सहित दूसरे वाहन चालकों से इस आंदोलन में शामिल होने की अपील की। 
... और पढ़ें

हमारी निर्णायक लड़ाई, अब पीछे नहीं हटेंगे कदम

दिल्ली: घर में घुसकर मां-बेटी को मारी गोली, महिला की मौत, युवती की हालत गंभीर

राजधानी दिल्ली के शाहदरा जिले के मानसरोवर पार्क इलाके में सोमवार रात बाइक सवार दो बदमाशों ने घर की चौथी मंजिल पर घुसकर मां-बेटी को गोली मार दी। हमले में मां की मौके पर ही मौत हो गई जबकि बेटी को कंधे में गोली लगने के बाद उसे स्वामी दयानंद अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। 

मां-बेटी पर हमले की सूचना मिलते ही जिले के वरिष्ठ पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के के लिए मोर्चरी भेज दिया गया है। शुरूआती जांच के बाद पुलिस आशंका जता रही है कि प्रेम प्रसंग या आपसी रंजिश में वारदात को अंजाम दिया गया है। 

मानसरोवर पार्क थाना पुलिस आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से आरोपियों की पहचान कर उन तक पहुंचने का प्रयास कर रही है। पुलिस के मुताबिक मृतका की शिनाख्त शमा खान (46) के रूप में हुई है। शमा खान अपनी तीन बेटियों के साथ जी-ब्लॉक, मानसरोवर पार्क इलाके में किराए के मकान में चौथी मंजिल पर रहती थी। 

इसके परिवार में बड़ी बेटी महक (23) के अलावा दो छोटी बेटियां और हैं। पिछले काफी समय से शमा अपनी पति से अलग रहती थीं। सोमवार रात को वह तीनों बेटियों के साथ घर पर मौजूद थी। रात करीब 9.30 बजे घर पर इंटरनेट लगाने वाला एक युवक आया हुआ था। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X