विज्ञापन
विज्ञापन
कार्यक्षेत्र में सफलता के जानें विशेष योग, आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली !
Kundali

कार्यक्षेत्र में सफलता के जानें विशेष योग, आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

400 साल आगे व पीछे ले जाएगा ये अनोखा स्मार्ट कैलेंडर, 70 वर्षीय विजय मेहरा ने किया है तैयार

70 वर्षीय विजय मेहरा ने खास स्मार्ट कैलेंडर तैयार किया है। इस कैलेंडर की खासियत है कि इसकी मदद से पिछले व भविष्य के 400 सालों की जानकारी ली जा सकती है...

25 नवंबर 2020

आपकी आवाज़

अपने शहर के मुद्दे और शिकायतों को यहां शेयर करें
विज्ञापन
Digital Edition

Corona In Uttarakhand: 455 नए संक्रमित मिले, नौ की मौत, सक्रिय मरीजों की संख्या पांच हजार पार

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित मामले और मरीजों की मौत थम नहीं रही है। बीते 24 घंटे में 455 नए संक्रमित मिले और नौ मरीजों की मौत हुई है। ठीक होने वालों की तुलना में संक्रमित मामले ज्यादा मिलने से सक्रिय मरीजों का आंकड़ा पांच हजार पार हो गया है। कुल संक्रमितों की संख्या 74795 हो गई है। 

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार सोमवार को 12510 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। वहीं, 455 लोग कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। देहरादून जिले में सबसे अधिक 185 कोरोना मरीज मिले हैं। नैनीताल में 57, पिथौरागढ़ में 49, ऊधमसिंह नगर में 24, अल्मोड़ा में 24, हरिद्वार में 23, पौड़ी में 19, चमोली में 17, टिहरी में 14, बागेश्वर में 13, चंपावत में 11, उत्तरकाशी में 11, रुद्रप्रयाग जिले में आठ संक्रमित मिले हैं। 


यह भी पढ़ें: 
Coronavirus in Uttarakhand : बेसिक की ऑनलाइन पढ़ाई ठप, बोर्ड परीक्षा पर भी संकट

प्रदेश में आज नौ मरीजों की मौत हुई है। इसमें महंत इन्दिरेश हॉस्पिटल में चार, एम्स ऋषिकेश में एक, जिला अस्पताल चमोली में एक, जिला अस्पताल टिहरी में एक, मैक्स हॉस्पिटल में एक, नीलकंठ हॉस्पिटल नैनीताल में एक मरीज ने उपचार के दौरान दम तोड़ा है। प्रदेश में अब तक 1231 कोरोना मरीजों की मौत हो चुकी है। वहीं, 352 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया। इन्हें मिला कर 67827 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। 
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

नैनीताल में 26 से 30 दिसंबर तक होगा विंटर कार्निवाल, साहसिक खेल रहेंगे मुख्य आकर्षण

उत्तराखंड में शीतकालीन पर्यटन और साहसिक खेलों को बढ़ावा देने के लिए उत्तराखंड पर्यटन विकास परिषद और नैनीताल जिला प्रशासन ने विंटर कार्निवाल की तैयारियां शुरू कर दी है। 26 से 30 दिसंबर तक नैनीताल, भीमताल, कोटाबाग, सातताल और पंगोट समेत कई स्थानों पर विंटर कार्निवाल आयोजित किया जाएगा। 

पांच दिवसीय प्रतियोगिता में क्रॉस कंट्री व पैराग्लाइडिंग प्रतियोगिताएं मुख्य आकर्षण का केंद्र रहेंगी। जिनका आयोजन कोटाबाग क्षेत्र में किया जाएगा। अन्य गतिविधियों में हॉट एयर बैलून की सवारी, पैरा मॉटेरिंग, एमटीबी रैली, एटीवी रैली, हेरिटेज वॉक एंड विलेज टूर, ट्रेलरनिंग, ट्रेकिंग, जिप लाइन, रॉक क्लिंबिंग, रैपलिंग, जोरमिंग, फ्लावर शो का आयोजन किया जाएगा।


पंगोट और सात ताल में बर्ड वॉचिंग कार्यशाला आयोजित की जाएगी। वहीं भीमताल में क्याकिंग, वॉल पेंटिंग और बोट रेस, नैनीताल में एस्ट्रो फोटोग्राफी, नाव की सजावट और हॉफ मैराथन आयोजन होगा। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: पद संभालते ही डीजीपी अशोक कुमार ने गिनाई प्राथमिकताएं, जारी किया पहला सर्कुलर 

पदभार संभालते ही उत्तराखंड के नए डीजीपी अशोक कुमार ने पहला सर्कुलर जारी किया। उन्होंने मीडिया को भी अपनी प्राथमिकताएं और लक्ष्यों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि पीड़ित केंद्रित पुलिसिंग ही उनका लक्ष्य होगा। इसके लिए पुलिसकर्मियों के दृष्टिकोण और आदतों में सुधार करते हुए उनकी परफॉर्मेंस को बढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि जनता को न्याय दिलाना पुलिस का काम है, जिसके लिए जनता को साथ रखना होगा।

पुलिस मुख्यालय में उन्होंने पहली पत्रकार वार्ता में कहा कि उत्तराखंड पुलिस जनता के लिए मित्र बनेगी और बदमाशों के लिए खौफ। इसके लिए सिपाही से लेकर डीजी तक को कार्यशैली में सुधार करना होगा। यदि कोई भी इस सिद्धांत से परे हटकर काम करेगा तो उसके खिलाफ  कार्रवाई की जाएगी। पुलिस को स्मार्ट बनाना है तो इसके लिए दक्षता को बढ़ाना होगा।

थानों में जन शिकायतों को शत-प्रतिशत रिसीव कर समय पर उनका निस्तारण किया जाएगा। शिकायत रिसीव नहीं करने पर दोषी पुलिसकर्मियों को दंडित किया जाएगा। क्योंकि, यदि शिकायत रिसीव ही नहीं हुई तो जनता को न्याय दिलाने का प्रयास ही विफल हो जाएगा। उन्होंने पुलिसकर्मियों की हर समस्या का निस्तारण करने की बात भी कही। पुलिस रूल के हिसाब जो सही है उसी के आधार पर पुलिस कर्मियों के तबादले आदि किए जाएंगे। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड : डीजीपी अनिल रतूड़ी हुए रिटायर, आईपीएस अशोक कुमार ने संभाला कार्यभार

उत्तराखंड पुलिस महानिदेशक (डीजीपी ) अनिल कुमार रतूड़ी सोमवार को सेवानिवृत्त हो गए। उन्होंने बतौर डीजीपी तीन साल से अधिक समय तक सेवाएं दीं। इस दौरान उन्होंने कानून व्यवस्था से लेकर पुलिस कल्याण के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए। सोमवार को उनके सम्मान में पुलिस परेड का आयोजन किया गया, जिसके बाद पुलिस अधिकारियों ने उनकी गाड़ी को धक्का लगाकर पारंपरिक विदाई दी।

पुलिस लाइन देहरादून के मैदान में सुबह करीब साढ़े नौ बजे परेड का आयोजन किया गया। डीजीपी अनिल कुमार रतूड़ी ने परेड का निरीक्षण किया। निरीक्षण के बाद उन्होंने संबोधन के दौरान उत्तराखंड में अपने 20 साल के कार्यकाल को याद किया। उन्होंने कहा कि वे अगस्त 2000 में उत्तराखंड में बतौर ओएसडी आए थे। 20 साल के अनुभव में उन्होंने उत्तराखंड और यहां की पुलिस को बेहद करीबी से देखा है।


यह भी पढ़ें: 
उत्तराखंड: पद संभालते ही डीजीपी अशोक कुमार ने गिनाई प्राथमिकताएं, जारी किया पहला सर्कुलर

उन्होंने कहा कि 20 साल में उत्तराखंड पुलिस हर दिन नए आयामों को छू रही है। कई कीर्तिमान भी इस दौरान पुलिस ने बनाए हैं। इसके पीछे पुलिस के सिपाही, दारोगा और इंस्पेक्टरों की कड़ी मेहनत है। उत्तराखंड पुलिस के जवान हमेशा अपनी कार्यशैली और शालीन भाषा के लिए पहचाने जाएंगे।

बीते दिनों लॉकडाउन में उत्तराखंड पुलिस ने जो काम किया उसे केंद्र सरकार ने भी माना है। उन्हें खुशी है कि वे देश की सबसे सभ्य पुलिस का हिस्सा रहे हैं और भविष्य में भी पुलिस अपनी इस कार्यशैली के नाम पर जानी जाती रहेगी। इस मौके पर उन्होंने सभी का धन्यवाद किया। कार्यक्रम में अपर पुलिस महानिदेशक पीवीके प्रसाद, आईजी अभिनव कुमार, आईजी संजय गुंज्याल, आईजी अमित सिन्हा, सभी डीआईजी और अन्य अधिकारी मौजूद रहे। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: लाटू देवता मंदिर के कपाट छह महीने के लिए बंद, समिति ने घरों में पहुंचाया प्रसाद

उत्तराखंड के वांण गांव में लाटू वाण के कपाट पूजा-अर्चना के बाद छह माह के लिए बंद कर दिए गए हैं। अब कपाट बैसाख की पूर्णिमा को खुलेंगे। कोरोना संक्रमण के चलते मंदिर समिति ने भगवान लाटू का प्रसाद घरों में पहुंचाया।

सोमवार को मंदिर के पुजारी खीम सिंह ने 11 बजे आंख पर पट्टी बांधकर मंदिर के अंदर प्रवेश किया और पूजा के बाद मंदिर के मुख्य गर्भगृह के कपाट बंद किए। मंदिर के कपाट बंद होते ही पूरा क्षेत्र लाटू के जयकारों से गूंज उठा।


इस मौके पर विधायक मुन्नी देवी शाह, हुकम सिंह, कृष्णा बिष्ट, हीरा पहाड़ी, चंद्र सिंह, भरत सिंह, दलबीर दानू, नंदी कुनियाल, केडी मिश्रा, उमेश मिश्रा, नरेंद्र बिष्ट, पुष्कर बिष्ट, हीरा सिंह, पान सिंह, दिलबर सिंह, नंदन कुनियाल, गबर सिंह आदि मौजूद थे।
... और पढ़ें

कोटद्वार: चार दिसंबर से शुरू होगा तीन दिवसीय प्रसिद्ध सिद्धबली महोत्सव, केवल धार्मिक अनुष्ठान ही होंगे

गत वर्षों की भांति इस वर्ष भी चार दिसंबर (शुक्रवार) से 20वां तीन दिवसीय श्री सिद्धबली बाबा वार्षिक अनुष्ठान आयोजित होगा। इस बार के महोत्सव को कोरोना गाइड लाइन के अनुसार कराया जाएगा। केवल धार्मिक अनुष्ठान और पारंपरिक सिद्धबाला का डोला नगर परिक्रमा पर निकलेगा। सांस्कृतिक भजन संध्या जैसे कार्यक्रम स्थगित किए गए हैं।   

श्री सिद्धबली मंदिर समिति के अध्यक्ष कुंज बिहारी देवरानी ने बताया कि शुक्रवार 4 दिसंबर को सुबह पांच बजे पिंडी महाभिषेक से वार्षिक अनुष्ठान का शुभारंभ होगा। मंदिर परिक्रमा एवं ध्वज पूजन सुबह सात बजे, एकादश कुंडीय यज्ञ सुबह साढ़े सात बजे होगा।


शाम को श्री सिद्धबली बाबा का डोला सिद्धबली मंदिर से प्रारंभ होगा, जिसका समापन गुरुद्वारा गोविंदनगर पहुंचकर होगा। शनिवार 5 दिसंबर को दूसरे दिन सुबह पांच बजे पिंडी महाभिषेक, सुबह साढ़े सात बजे एकादश कुंडीय यज्ञ आयोजित होगा।

सुबह साढ़े दस बजे से सुंदरकांड पाठ का आयोजन होगा। वार्षिक अनुष्ठान के अंतिम दिन रविवार 6 दिसंबर को सुबह पांच बजे पिंडी महाभिषेक, एकादश कुंडीय यज्ञ सुबह साढ़े सात बजे होगा।

सुबह दस बजे सिद्धबली बाबा का जागर कार्यक्रम होगा। सुबह 11 बजे सवामन रोट का भोग लगाकर प्रसाद वितरित किया जाएगा। श्री सिद्धबली मंदिर समिति के अध्यक्ष कुंज बिहारी देवरानी ने बताया कि शोभायात्रा के रूप में केवल बाबा के डोली के साथ नगर की परिक्रमा की जाएगी। 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X