बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
ये चार राशि के लोग हो जाएं सावधान, कष्टकारी रहेगा शनिवार
Myjyotish

ये चार राशि के लोग हो जाएं सावधान, कष्टकारी रहेगा शनिवार

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

भाजपा सांसद के बोल वायरल: कहा- सोशल मीडिया पर चव्वनी छाप लोग, कुछ भी लिखते हैं

उत्तर प्रदेश के बागपत से सांसद डॉ. सत्यपाल सिंह का एक विवादित बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि आजकल सोशल मीडिया पर चव्वनी छाप लोग कुछ भी लिखते हैं। जो झूठ बोलता है, वो अगले जन्म में इंसान नहीं बनेंगे। ऐसे लोगों की अगले जन्म में जीभ कट जाएगी। फिर वह कुछ बोल नहीं पाएंगे। 

दरअसल, सत्यपाल सिंह का ये विवादित बयान इसीलिए सामने आया है क्योंकि यूपी और हरियाणा को जोड़ने वाले यमुना पुल के निर्माण को लेकर विपक्ष के लोगों की ओर से लगातार पोस्ट की जा रही थी। सांसद ने कहा कि वे लोग कह रहे हैं कि हमने पुल बनवा दिया, पुल बनवा रहे हैं। आप सबको मालूम है कि पुल किसने बनवाया। दुनिया को मालूम है, भगवान भी देखता है। छपरौली में शुक्रवार को आयोजित कार्यक्रम के दौरान उन्होंने ये टिप्पणी की।
... और पढ़ें

सहारनपुर: नशे का अवैध व्यापार और तस्करी करने वालों पर हो गैंगस्टर एक्ट में कार्रवाई, एडीजी ने किया निरीक्षण

एडीजी मेरठ जोन राजीव सबरवाल ने सहारनपुर में पुलिस अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। वार्षिक निरीक्षण कर अपराध पर नियंत्रण और अपराधियों पर कार्रवाई का निर्देश दिया।

शुक्रवार रात एडीजी सहारनपुर में पुलिस लाइन पहुंचे। इस दौरान उन्होंने डीआईजी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सहारनपुर, अपर पुलिस अधीक्षक नगर/ग्रामीण एवं क्षेत्राधिकारी सदर एवं क्षेत्राधिकारी नगर प्रथम के साथ समीक्षा बैठक की।  

नगर क्षेत्र के क्षेत्राधिकारी एवं रेंज स्तरीय साइबर सेल एवं जनपद स्तरीय साइबर सेल प्रभारी के कार्यों की समीक्षा कर विशेष जांच प्रकोष्ठ एवं बाल सुरक्षा कल्याण प्रकोष्ठ शाखाओं का वार्षिक निरीक्षण किया। नशा मुक्ति ऑपरेशन को और प्रभावी तरीके से चलाने का भी निर्देश दिया।

उन्होंने नशे का अवैध व्यापार एवं तस्करी करनेवालों पर गुंडा एक्ट तथा गैंगस्टर एक्ट के तहत भी कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया।
... और पढ़ें

यूपी: दो दिन की छुट्टी के बाद मेरठ पहुंचे एसएसपी प्रभाकर चौधरी, पुलिस अफसरों में मची खलबली

एसएसपी प्रभाकर चौधरी दो दिन की छुट्टी के बाद शुक्रवार को मेरठ पहुंच गए। इस दौरान उन्होंने माडिया कर्मियों को बुलाकर उनसे बातचीत की। उन्होंने अपनी कार्यशैली के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि निष्पक्ष व इमानदारी से काम होगा। भ्रष्टाचार कतई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। उन्होंने अधिकारियों के लिए कहा सभी अपनी-अपनी जिम्मेदारी को सही से निभाएं। अगर कोई समस्या है तो मुझे मेरे सरकारी नंबर पर बताएं। प्रभाकर चौधरी इससे पहले मुरादाबाद और बुलंदशहर समेत कई जनपदों में एसपी रह चुके हैं।

बता दें कि एसएसपी प्रभाकर चौधरी बुधवार सुबह सर्किट हाउस पहुंचे थे। एसएसपी प्रभाकर चौधरी अपने अंदाज में ही सर्किट हाउस पहुंचे थे। उनके पहुंचने की किसी को भनक तक नहीं लगी थी। इस दौरान सीओ एलआईयू ने बुके देकर उनका स्वागत किया था। इसके बाद एसएसपी ने वहां मौजूद सभी पुलिसकर्मियों से बातचीत की थी।

नवागत एसएसपी का ऑडियो वायरल, पुलिस कर्मियों में बेचैनी 
नवागत एसएसपी प्रभाकर चौधरी का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। इससे पुलिस कर्मियों में खलबली मची है। बताया गया कि यह ऑडियो मुरादाबाद में एसएसपी बनने के बाद का है। इसमें वह पुलिस वालों से अपनी प्राथमिकता बता रहे हैं। धरातल पर पुलिसिंग, भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई और पुलिस विभाग द्वारा मिलने वाले पैसे से बेहतर कानून व्यवस्था कायम करने की बात ऑडियो में कही गई है।
... और पढ़ें

राकेश टिकैत की चेतावनी : 2022 विधानसभा चुनाव में सरकार को सबक सिखाएंगे किसान, ऐसे मजबूत होगा आंदोलन

मेरठ के सिवाया टोल प्लाजा पर कृषि कानून के विरोध में चल रहे भाकियू के धरने के 25वें दिन भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत कार्यकर्ताओं को संबोधित करने पहुंचे। उन्होंने कार्यकर्ताओं से गांव- गांव जाकर किसानों से संपर्क कर आंदोलन को मजबूत बनाने के निर्देश दिए। साथ ही मेरठ के एक अस्पताल पर प्रशासनिक कार्रवाई न होने पर सील लगाने की चेतावनी दी।

कृषि कानून के विरोध में सिवाया टोल प्लाजा पर पिछले 25 दिन से धरना चल रहा है। किसान व कार्यकर्ता बारिश में भी धरने पर डटे हुए हैं। शनिवार को भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत गाजीपुर बॉर्डर से छुर्र गांव में एक शादी समारोह में शामिल होने पहुंचे।

शादी समारोह से लौटते समय वह कुछ देर टोल प्लाजा पर रुके। राकेश टिकैत के टोल पर पहुंचने के बाद कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

राकेश टिकैत ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार गूंगी व बहरी हो चुकी है। सरकार को किसान हित की कोई चिंता नहीं है। सरकार में बैठे नुमाइंदे खुद को किसान हितैशी बताते हैं। जबकि, सत्ता में बैठे किसी भी जनप्रतिनिधि ने कृषि कानून का विरोध नहीं किया।

उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि अब आंदोलन में ओर तेजी लानी होगी। इसके लिए कार्यकर्ता गांव गांव जाकर किसानों से संपर्क साधे और अधिक से अधिक संख्या में धरना स्थल पर पहु्ंचने की अपील करें। उन्होंने धरने पर बैठे कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ाया और धरना जारी रखने के निर्देश दिए।

बता दें कि आंदोलन को मजबूती देने के लिए अब नई रणनीति बनाई गई है। अब आंदोलन को मजबूती देने के लिए हर एक गांव का दिल्ली बॉर्डर पर कैंप लगाया जाएगाए जिसमें बॉर्डर पर प्रत्येक गांव की उपस्थिति अनिवार्य होगी। किसान नेताओं का कहना है कि जब तक कृषि कानून वापस नहीं होंगे और एमएसपी पर गारंटी कानून नहीं बनेगा तब तक किसान आंदोलन खत्म नहीं करेंगे।
... और पढ़ें
सिवाया टोल पर धरने में पहुंचकर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते राकेश टिकैत सिवाया टोल पर धरने में पहुंचकर कार्यकर्ताओं को संबोधित करते राकेश टिकैत

बड़ा खतरा: उफान पर गंगा, दहशत में तीन जिलों के गांव, तबाही न मचा दे तेजी से बढ़ता कटान, देखें तस्वीरें

हरिद्वार से गंगा में तीन लाख, 75 हजार क्यूसेक पानी छोड़ने के बाद मेरठ, मुजफ्फरनगर और बिजनौर जिले के गांवों में बाढ़ का खतरा मंडरा रहा है। वहीं प्रशासनिक अधिकारी बाढ़ से निपटने की तैयारियों जुटे हुए हैं। अधिकारियों ने गंगा किनारे बसे गांव वालों से सुरक्षित स्थान पर जाने की अपील की है। बताया जा रहा है कि आज शाम तक गंगा का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर पहुंच जाएगा, जिससे अधिकारियों में हड़कंप मचा है। 

हस्तिनापुर में शनिवार सुबह अचानक गंगा में जलस्तर बढ़ने से खादर क्षेत्र के ग्रामीण दहशत में आ गए। वहीं शासन-प्रशासन के आधिकारी सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लेने गंगा के तटबंध पर पहुंचे। उन्होंने सिंचाई विभाग सहित अन्य संबंधित विभागों के अधिकारियों को जल्द ही सुरक्षा के सभी इंतजाम पूरे करने के निर्देश दिए हैं।

बता दें कि शनिवार सुबह हरिद्वार के भीमगोड़ा बैराज से छोड़े गए तीन लाख, 75 हजार क्यूसेक पानी से गंगा का जलस्तर अचानक बढ़ने लगा। वहीं जैसे-जैसे पानी बिजनौर बैराज की ओर बढ़ रहा है तो खादर क्षेत्र के लोगों की चिंता भी बढ़ रही है। वहीं क्षेत्रीय विधायक दिनेश खटीक, एडीएम वित्त सुभाष चंद प्रजापति, एसडीएम कमलेश गोयल, तहसीलदार अजय कुमार उपाध्याय, सिंचाई विभाग के एसडीओ पीके जैन, सीओ मवाना उदय प्रताप सिंह, थाना प्रभारी अशोक कुमार सिंह ने फतेहपुर प्रेम और गंगा घाट पर जाकर सुरक्षा व्यवस्थाओं का जायजा लिया।
... और पढ़ें

दिनदहाड़े वारदात: बेखौफ बदमाशों ने कोल्हू संचालक से लूटे 7.40 लाख रुपये और बाइक, मचा हड़कंप

उत्तर प्रदेश के बागपत जनपद में शनिवार को एक सनसनीखेज वारदात हो गई। यहां सिंघावली अहीर थाना क्षेत्र में मेरठ-बागपत मार्ग पर बदमाशों ने दिनदहाड़े कोल्हू संचालक से 7.40 लाख की नकदी व बाइक लूट ली। सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है। 

बताया गया कि शोभापुर निवासी धीर सिंह कोल्हू संचालक हैं। शनिवार को करीब 11 बजे वह रोशनगढ़ से बैग में 7.40 लाख लेकर वापस लौट रहे थे। मेरठ-बागपत मार्ग पर देवास पब्लिक स्कूल के पास दो बाइकों पर आए तीन बदमाशों ने उन्हें रोक लिया और हथियारों के बल पर नकदी व बाइक लूट ली। विरोध करने पर बदमाशों ने उनके साथ मारपीट भी की। 

इसके बाद आसानी से फरार हो गए। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। घटना की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

यूपी: रालोद कार्यकर्ताओं ने किया आरोपियों को पुलिस हिरासत से छुड़ाने का प्रयास, वीडियो वायरल

बागपत में जिला पंचायत सदस्य के भाई और पुत्र को रालोद कार्यकर्ताओं ने पुलिस हिरासत से छुड़ाने का प्रयास किया। इसका एक वीडियो भी वायरल हो रहा है। आरोपियों को सीओ के सामने पेश करने ले जाते समय पुलिस की गाड़ी पंक्चर हो गई थी। दूसरी गाड़ी में आरोपियों को बैठाते समय यह घटना हुई। 

वार्ड-3 के जिला पंचायत सदस्य महबूब अल्वी और उनके भाई व पुत्रों के खिलाफ जानलेवा हमले का मुकदमा पुलिस ने दर्ज किया था। महबूब अल्वी के भाई मतलूब और पुत्र राजू व आदिल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था। जिसके बाद बिनौली थाने पर जमकर हंगामा हुआ। रालोद और सपा नेता थाने में धरने पर बैठ गए। धीरे-धीरे थाने में भीड़ बढ़ने लगी। 

वहीं रालोद और सपा नेताओं ने पुलिस पर सत्ताधारियों के दबाव में काम करने का आरोप लगाया। मुकदमा तत्काल खारिज करने की मांग की। इसी दौरान पुलिस आरोपियों को सीओ बागपत के समक्ष पेश करने ले जाने लगी। जिस पर रालोद व सपा नेताओं ने पुलिस की जीप के पीछे दौड़ लगा दी। कुछ ने अपने वाहनों से पुलिस का पीछा भी किया। रास्ते में पुलिस की गाड़ी पंक्चर हो गई। इस दौरान दूसरी गाड़ी मंगाई गई। आरोपियों को दूसरी गाड़ी में बैठाया जा रहा था। इसी दौरान पुलिस की गाड़ी का पीछा कर रहे कुछ लोग वहां पहुंच गए। उन्होंने आरोपियों को पुलिस की गिरफ्त से छुड़ाने का प्रयास किया। पुलिस किसी तरह आरोपियों को वहां से लेकर निकली।
... और पढ़ें

ऑनर किलिंग: नाराज भाई ने गोली मारकर बहन को उतारा मौत के घाट, प्रेमी के साथ चली गई थी किशोरी

बागपत में पुलिस हिरासत से आरोपियों को छुड़ाते रालोद कार्यकर्ता
मेरठ के सरधना क्षेत्र के छुर गांव में एक सनसनीखेज वारदात हो गई। एक युवक ने अपनी बहन की गोली मारकर हत्या कर दी। बताया गया कि किशोरी एक युवक के साथ चली गई थी। वह दो दिन बाद घर लौटी थी। इसी से आरोपी भाई नाराज था।

पुलिस के मुताबिक, सरधना थाना क्षेत्र के छुर गांव की 16 साल की किशोरी (12वीं की छात्रा) का गौरव निवासी कलंजरी, जानी से प्रेम प्रसंग चल रहा था। गौरव (19) की रिश्तेदारी छुर गांव में थी। जिसके चलते उसका वहां आना जाना था। 13 जून को गौरव के साथ किशोरी चली गई। परिजनों ने किशोरी को मथुरा से बरामद किया था।

इस बात को लेकर किशोरी से उसका भाई नफरत करने लगा। शुक्रवार रात बहन-भाई में विवाद हो गया। तभी भाई ने बहन की गर्दन पर गोली मारकर हत्या कर दी। जानकारी लगते ही सीओ सरधना और इंस्पेक्टर सरधना पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया। एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने बताया है कि आरोपी भाई की तलाश में पुलिस की टीम लगा दी। किशोरी के ताऊ की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया।
... और पढ़ें

अलर्ट: हरिद्वार से छोड़ा 3.75 लाख क्यूसेक पानी, यूपी में उफान पर गंगा, इन दो जिलों पर मंडरा रहा बाढ़ का खतरा

पहाड़ी और मैदानी इलाकों में हो रही बारिश के बाद शनिवार सुबह छह बजे हरिद्वार से तीन लाख, पिछत्तर हजार क्यूसेक पानी छोड़ने से गंगा उफान पर आ गई है। बिजनौर गंगा बैराज पर एक लाख, तीस हजार क्यूसेक पानी चल रहा है। शाम तक गंगा का जलस्तर और बढ़ने की संभावना है। वहीं गंगा उफान पर आने से गंगा के तटीय गांवों में खतरा बढ़ गया है। 

उधर, प्रशासन और पुलिस ने आसपास के गांव वालों को अलर्ट कर दिया है। प्रशासन ने सभी गांव वालों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचने की हिदायत दी है। शुक्रवार की रात करीब एक बजे मंडावर के गांव मिर्जापुर में गंगा पार प्लेज लगाने वाले गांव दयालवाला निवासी समय सिंह, जोगेंद्र सिंह, महेंद्र, मीरापुर निवासी कलीराम व गांव सिमला निवासी चेतन गंगा में फंस गए। 

सूचना पर पहुंची मंडावर पुलिस व पीएसी कर्मियों ने मोटर वोट के सहारे गंगा में फंसे लोगों को सकुशल बाहर निकाला। इस दौरान एक किसान की छह बकरी गंगा में बह गईं। वहीं नाव के सहारे परिवार समेत किसान को घर पहुंचाया गया। गंगा का जलस्तर बढ़ने से प्लेज व आसपास के खेत जलमग्न हुए। बताया गया कि गंगा बैराज पर दो लाख, पैंतालीस हजार क्यूसेक पानी आने पर खतरे का निशान है।

बता दें कि गंगा के किनारे वाले रावली, ब्रह्मपुरी, शहजादपुर आदि गांवों में सुरक्षा की दृष्टि से रात में ही ग्राम प्रधानों ने ग्रामीणों को सचेत रहने के लिए सूचित किया। रावली क्षेत्र में पानी अभी अपनी हद में चल रहा है। लेकिन पानी की गति तेज है।

मंडावर में शनिवार की सुबह अचानक गंगा का जलस्तर बढ़ गया। गंगा का जलस्तर बढ़ने से गंगा पार खेतों की रखवाली कर रहे किसान गंगा के बीच फंस गए। सूचना पर पहुंची पुलिस व पीएसी ने फंसे किसानों को किसी तरह बाहर निकाला। थाना प्रभारी मनोज कुमार ने गंगा किनारे बसे गांवों में अलाउंस कर सभी से गंगा पार ना जाने की अपील की है।
... और पढ़ें

अमर उजाला पड़ताल: पौधे तो लगे 20 हजार... पेड़ बनने से पहले ही हुए ‘बेकार’, पढ़िए खास रिपोर्ट

बारिश से पहले शहर को हरा-भरा करने के लिए पौधरोपण की योजना तैयार की जाती है। सरकार को दिखाने के लिए हजारों पेड़ लगाए जाते हैं, लेकिन उनकी देखभाल नहीं की जाती। जिस कारण अधिकांश पेड़ सूख जाते हैं और लाखों रुपये बेकार हो जाते हैं। यही हाल पिछले दो वर्ष से मेरठ विकास प्राधिकरण (एमडीए) का रहा है। गांधी उपवन और मियावाकि विधि से छोटा जंगल बनाने के बड़े-बड़े दावे किए गए। 20 हजार पौधे भी लगाए गए, लेकिन अब मौके पर अधिकांश पौधे सूख चुके हैं। एमडीए ने फिर से 30 हजार पेड़ लगाने की तैयारी की है।

2019 में परतापुर स्थित कताई मिल के पीछे गांधी उपवन तैयार कराने की योजना पर कार्य हुआ। नौ अगस्त 2019 को तत्कालीन विज्ञान और प्रौद्योगिकी अपर मुख्य सचिव कुमार कमलेश की निगरानी में 15 हजार पौधे लगाए गए, लेकिन आज वहां के अधिकांश पौधे सूख गए हैं। हालात ये हैं कि प्रवेश द्वार को लकड़ियों से बांधकर बंद किया गया है। 

इस बार भी इसी स्थान को एमडीए ने चुना है। किसी भी अधिकारी ने ये सुध लेने की कोशिश नहीं की यहां पहले से सूखे पौधों का क्या होगा। यहां औषधीय पौधे लगाने की वाहवाही लूटी गई। शहर के लिए पिकनिक स्पॉट बनाने के लिए कहा गया, लेकिन लापरवाही के कारण सब बेकार हो गया।
... और पढ़ें

यूपी: मेजर मनोज हम शर्मिंदा हैं... तुम्हारी शहादत का यहां कोई मोल नहीं, सामने आई अफसरों की बड़ी लापरवाही

एक मेजर मनोज तलवार थे। जो कारगिल की लड़ाई में शहीद हो गए। जिनका पार्थिव शरीर घर पहुंचा तो चिट्ठी लेकर पीछे-पीछे डाकिया भी घर आ गया। ये चिट्ठी मेजर मनोज ने अपनी शहादत से एक दिन पहले माइनस 40 डिग्री तापमान में तोप के गोलों की आवाज के बीच बंकर में बैठकर लिखी थी। ऐसे माहौल में भी उन्होंने यही लिखा था डियर मम्मी-पापा... अपना ख्याल रखना। मेरी चिंता मत करना। आऊंगा तो जीतकर ही आऊंगा, चाहे तिरंगे में लिपटकर आऊंगा। ऐसे शहीद बेटे से आज हम माफी मांगते हैं। क्रांतिधरा का तमगा रखने वाला आज हमारा मेरठ ऐसे शहीदों की प्रतिमा को भी नहीं सहेज सका। मेजर मनोज हम शर्मिंदा हैं... तुम्हारी शहादत का यहां इतना ही मोल है। 

ये कोई फिल्मी कहानी नहीं है। आपकी क्रांतिधरा और यहां तैनात रहने वाले अफसरों की कार्यशैली की हकीकत है। मेजर मनोज तलवार कारगिल की लड़ाई में 13 जून 1999 को शहीद हो गए। पार्थिव शरीर घर आया तो मुजफ्फरनगर तक से लोग यहां आए। कई किलोमीटर तक सड़क पर पैर रखने की जगह नहीं थी। जब तक सूरज चांद रहेगा, मनोज तेरा नाम रहेगा... नारे गूंज रहे थे। सांसद, विधायक, मंत्री और अफसर पता नहीं कौन-कौन जाने क्या-क्या वादे कर रहे थे। पिता सेना कैप्टन रहे डिफेंस कॉलोनी निवासी कैप्टन पीएल तलवार जवान बेटे के गम में बस आंसू बहाते रहे। उन्हें यकीन था कि बेटे की शहादत को मेरठ में पहचान मिलेगी लेकिन, ये उनकी भूल निकली। 

मवाना बस स्टैंड चौराहे पर मेजर मनोज तलवार की प्रतिमा लगाई गई। कुछ सालों बाद चौराहे का सौंद्रयीकरण हुआ तो मनोज तलवार की प्रतिमा को वहां से किनारे लगा दिया। फुटपाथ पर। जहां लोग रोज शराब पीते थे। चप्पल निकालकर बैठते थे। 

शहीद का ऐसा अपमान तो नहीं होता। आपके अखबार अमर उजाला ने अभियान छेड़ा और शहीद की प्रतिमा को दोबारा चौराहे पर स्थापित कराया। लेकिन जो पत्थर यहां लगा था कि उस पर मेजर मनोज की शहादत की तारीख 13 जून की जगह 23 जून लिखी थी।
... और पढ़ें

यूपी: शातिर गिरोह का भंडाफोड़, दबोचे गए दो आरोपी, 10 कारें बरामद, ऐसे चल रहा था बड़ा खेल

दिल्ली-एनसीआर से वाहनों की चोरी करने वाले गिरोह का मेरठ पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने दो आरोपियों को गिरफ्तार कर गाजियाबाद से चोरी हुई होंडा सिटी व आई-10 गाड़ी बरामद की। आरोपियों ने बताया कि चोरी की गाड़ियां मुजफ्फरनगर और मेरठ के सोतीगंज में आती हैं। मुजफ्फरनगर पुलिस ने मीनाक्षी चौक के पास एक कबाड़ी के गोदाम पर छापा मारा। यहां से चोरी के कुछ वाहन और इंजन बरामद किए गए हैं।

परतापुर थाना पुलिस गुरुवार रात मोहिउद्दीनपुर पुलिस चौकी के पास वाहनों की चेकिंग कर रही थी। इसी दौरान दिल्ली की ओर से आई-10 गाड़ी आ रही थी। इसके चालक ने गाड़ी नहीं रोकी और भागने लगा। पुलिस ने गाड़ी का पीछा और आधे किमी दूर जाकर पकड़ लिया। संजय नाम के चालक ने बताया कि एक घंटे पहले गाजियाबाद से आई-10 और होंडा सिटी गाड़ी चोरी की है। होंडा सिटी कार को अजीम निवासी मुजफ्फरनगर लेकर आ रहा है। 

पुलिस ने उसे पकड़ने का प्लान बनाया, लेकिन अजीम गाड़ी छोड़कर भाग गया। बताया गया है कि दोनों गाड़ी मुजफ्फरनगर के मीनाक्षी चौक के पास एक कबाड़ी के गोदाम पर जानी थी। वहां इन्हें काटा जाना था। पुलिस ने संजय से पूछताछ के बाद एक और आरोपी को पकड़ लिया। दोनों से पुलिस ने रातभर पूछताछ की।

उन्होंने बताया कि दिल्ली-एनसीआर से चोरी होने वाली गाड़ियों को मुजफ्फरनगर व मेरठ के सोतीगंज में बेचा जाता है। उनका बड़ा गिरोह है। सरगना अजीम है। गाड़ियों को चोरी करने वाले, कबाड़ी के गोदाम तक उसको लाने वाले अलग, कबाड़ी से गाड़ी कटवाने के पैसे लेने वाले अलग-अलग सदस्य हैं। 
... और पढ़ें

कामयाबी: मनन बैंसला ने बढ़ाया मेरठ का मान, बने फाइटर पायलट, परिवार में खुशी का माहौल

मेरठ के मनन बैंसला ने फाइटर पायलट बनकर जिले का नाम रोशन किया है। वहीं मनन के पायलट बनने पर उनके परिवार और गांव में खुशी का माहौल है। आसपास के लोग उनके परिवार को बधाई दे रहे हैं।

बताया गया कि एयर फोर्स एकेडमी हैदराबाद में शुक्रवार को हुई पासिंग आउट परेड में मेरठ के मनन बैंसला को फाइटर पायलट के रूप में कमीशन प्राप्त हुआ। एयर चीफ मार्शल राकेश भदौरिया द्वारा मनन को विंग्स प्रदान किए गए। 

मूलरूप से कसेरू बक्सर निवासी और वर्तमान में साकेत में रह रहे मनन के पिता कम्प्यूटर इंजीनियर हैं और माता राजकीय माध्यमिक विद्यालय में प्रधानाचार्या के पद पर कार्यरत हैं। मनन को सेना में जाने की प्रेरणा अपने बड़े भाई आयुष बैंसला से मिली जो भारतीय नौसेना में लेफ्टिनेंट के पद पर कार्यरत हैं। 

बताया गया कि मनन की प्रारंभिक शिक्षा दीवान पब्लिक स्कूल मेरठ से हुई। 2017 में पहले प्रयास में ही उनका चयन एनडीए खड़गवासला के लिए हो गया। वे फुटबाल के बेहतरीन खिलाड़ी हैं। मनन की सफलता से पूरे परिवार में खुशी का माहौल है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us