बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
ये चार राशि के लोग हो जाएं सावधान, कष्टकारी रहेगा शनिवार
Myjyotish

ये चार राशि के लोग हो जाएं सावधान, कष्टकारी रहेगा शनिवार

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

क्लैट 2019 : सोशल मीडिया से दूरी बनाकर की तैयारी, पाई 26वीं रैंक, दिए कारगर टिप्स

क्लैट में ऑल इंडिया 26वीं रैंक हासिल करने वाली अदिति सेठ ने सोशल मीडिया से दूरी बनाकर तैयारी की।

16 जून 2019

विज्ञापन
Digital Edition

DC VS KKR: पृथ्वी शॉ के आगे नाइटराइडर्स जमीं पर, दिल्ली ने 7 विकेट से कोलकाता को हराया

दिल्ली के आक्रामक सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ (82 रन, 41 गेंद, 11 चौके, तीन छक्के) की आतिशी पारी ने आईपीएल मैच में यहां कोलकाता नाइट राइडर्स को 21 गेंदें शेष रहते सात विकेट से हरा दिया। दिल्ली को 155 रन का लक्ष्य मिला था जो टीम ने 16.3 ओवरों में तीन विकेट पर 156 रन बनाकर हासिल कर लिया।

सात मैचों में पांचवीं जीत के साथ दिल्ली अंक तालिका में दूसरे स्थान पर आ गई। कोलकाता को सात मैचों में 5वीं बार हार का सामना करना पड़ा। इस पारी के साथ पृथ्वी इस सीजन में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में 269 रन बनाकर तीसरे स्थान पर भी आ गए हैं। 

पहले ही ओवर में छह चौके  
दिल्ली कैपिटल्स के पृथ्वी शॉ ने शिवम मावी के पहले ही ओवर में छह चौके जड़े। पहली गेंद वाइड थी, उसके बाद पृथ्वी ने लगातार छह चौके जड़े। वह टी20 में ऐसे पहले बल्लेबाज हो गए हैं जिन्होंने पहले ही ओवर में छह चौके जड़े। इससे पहले टी20 में पहले ओवर में रिकॉर्ड पांच चौकों का था जो पांच बल्लेबाजों ने किया था।

पृथ्वी का दूसरा संयुक्त तेज अर्द्धशतक 
पृथ्वी शॉ का 18 गेंदों पर अर्द्धशतक दिल्ली की ओर से दूसरा संयुक्त तेज अर्द्धशतक है। रिकॉर्ड क्रिस मौरिस के नाम है जिन्होंने  2016 में गुजरात लायंस के खिलाफ 17 गेंदों पर पचासा पूरा किया था। ऋषभ पंत ने मुंबई के खिलाफ 2019 में 18 गेंदों पर ही अर्द्धशतक पूरा किया था।  

दिल्ली की आक्रामक शुरुआत 
दिल्ली ने पावरप्ले के छह ओवरों में बिना विकेट खोए 67 रन बना लिए थे। दिल्ली ने 11 ओवरों में बिना विकेट खोए 104 रन बना लिए थे। शिखर धवन महज चार रन से अपना अर्द्धशतक बनाने से चूक गए। कमिंस ने उन्हें एलबीडब्ल्यू आउट कर दिया। कप्तान ऋषभ पंत ने भी नेट रनरेट बेहतर करने के लिहाज से आक्रामक अंदाज दिखाए और प्रसिद्ध कृष्णा के ओवर में लगातार चौका और छक्का जड़ा। कमिंस ने 16वें ओवर में पृथ्वी और पंत को आउट कर दिया। जब पंत आउट हुए तब चार रन चाहिए थे और स्टोइनिस ने जीत की औपचारिकता पूरी कर दी। 

जन्मदिन पर चमके रसेल 
इससे पहले कोलकाता नाइटराइडर्स के लिए शीर्ष क्रम का प्रदर्शन कमजोर कड़ी बना हुआ है।  दिल्ली के खिलाफ शुभमन गिल के 43 रन छोड़ दें तो एक बार फिर बल्लेबाजों ने निराश किया। अपने 33वें जन्मदिन पर आंद्रे रसेल ने निचले क्रम में 27 गेंदों में 45 रन की नाबाद पारी खेली जिससे टीम छह विकेट पर 154 रन बनाने में सफल रही। रसेल ने अपनी पारी में दो चौके और चार छक्के लगाए। आंद्रे रसेल का बृहस्पतिवार को 33वां जन्मदिन था और उन्होंने इस पर उन्होंने टी20 में 6 हजार रन भी पूरे कर लिए। 

मोर्गन-नारायण नहीं चले  
पावरप्ले में टीम ने एक विकेट पर 45 रन बनाए थे। नीतीश राणा (15) चौथे ओवर में अक्षर पटेल(2/32) की गेंद स्टंप आउट हो गए थे। कप्तान इयोन मोर्गन और सुनील नारायण ने तीन गेंदों के अंतराल में बिना खाता खोले पवेलियन लौट गए। चोटिल अमित मिश्रा की जगह टीम में आए ललित यादव (2/13) ने दोनों विकेट अपनी झोली में डाले। जो स्कोर दसवें ओवर में एक विकेट पर 69 था, वो ही 11वें ओवर में 4 विकेट पर 75 रन हो गया। 
  •  14 गेंदों पर लगा है आईपीएल में सबसे तेज अर्द्धशतक जो पंजाब के लोकेश राहुल ने दिल्ली के खिलाफ 2016 में बनाया था।
  •  82 रन की पारी खेली पृथ्वी ने 41 गेंदों पर जिसमें 11 चौके और तीन छक्के शामिल थे 
  • 132 रन की साझेदारी हुई पृथ्वी और शिखर धवन के बीच पहले विकेट पर
... और पढ़ें

कोरोना का कहर : इन दो राज्यों में लागू हुआ ग्रीष्मावकाश, 06 जून तक विद्यालयों में छुट्टियां घोषित

देशभर में कोरोना महामारी के संक्रमण के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है। जहां एक ओर स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा रही हैं, वहीं दूसरी ओर बच्चों से लेकर युवाओं तक की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। राज्यों में लॉकडाउन जैसे हालात बन चुके हैं। इस बीच, कई राज्यों में स्कूल, कॉलेज ऑनलाइन कक्षाएं दे रहे हैं तो कुछ राज्यों में शैक्षणिक संस्थानों को बंद कर दिया गया है। इसी क्रम में अब राजस्थान के बाद अब गुजरात सरकार ने भी तमाम विद्यालयों में ग्रीष्मावकाश घोषित कर दिया है। 

गुजरात सरकार की ओर से प्रदेश के विद्यालयों में गर्मियों की छुट्टियों की घोषणा कर दी गई है। राज्य के स्कूलों में तीन मई से छह जून तक गर्मियों की छुट्टियां रहेंगी। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए गुजरात सरकार ने नया शैक्षणिक सत्र 2021-2022 अप्रैल 2021 की जगह अब जून 2021 से शुरू करने का फैसला किया है।

गुजरात शिक्षा विभाग की ओर से इस संबंध में आधिकारिक अधिसूचना भी जारी कर दी गई है। निजी विद्यालयों के कर्मचारियों को भी गर्मियों की छुट्टियों के समय के दौरान स्कूल जाने से छूट दी गई है। वहीं, शैक्षणिक और अन्य कर्मचारियों को राज्य सरकार, स्थानीय प्रशासन की ओर से महामारी रोकने के संदर्भ में यदि कोई कार्य सौंपा जाए, तो उन्हें करना होगा।
 
उधर, राजस्थान में भी गर्मी की छुट्टियां घोषित
इससे पहले, राजस्थान सरकार ने सभी सरकारी और निजी विद्यालयों में 45 दिनों की गर्मी की छुट्टी की घोषणा की थी। राजस्थान सरकार के आदेश के अनुसार राज्य के सभी राजकीय और निजी विद्यालयों में छह जून, 2021 तक ग्रीष्मकालीन अवकाश यानी गर्मियों की छुट्टियां रहेंगी।

राजस्थान के शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा था कि विद्यालयों में घोषित ग्रीष्मावकाश के संबंध में विभागीय आदेश जारी किए गए हैं। हालांकि, शिक्षकों को अलर्ट मोड पर रहने और जिला प्रशासन के आपातकालीन स्थिति में ड्यूटी निर्देशों का पालन करने के लिए कहा गया है। 
... और पढ़ें

कोरोना का खौफ: पारसी समुदाय ने बदला हजारों साल पुराना अंतिम संस्कार का तरीका, अब करेंगे अग्निदाह

कोरोना महामारी के चलते दुनिया भर में रीति रिवाजों, रहन सहन के तरीकों, शादी समारोह से लेकर अंतिम संस्कार तक के तौर तरीके बदल दिए गए हैं। कोरोना महामारी ने पारसी समुदाय को हजारों साल पुरानी परंपरा दोखमे नशीन को बदलकर दाह संस्कार करने पर मजबूर कर दिया है। हालात की गंभीरत को देखते हुए पारसी पंचायत पदाधिकारियों ने कोरोना के चलते जान गंवाने वाले लोगों को अग्निदाह करने की मंजूरी दे दी है।

पारसी पंचायत के सदस्य बताते हैं कि देश में उनके समुदाय के लोगों की जनसंख्या करीब एक लाख है। कोरोना महामारी के चलते कई लोगों की मौत हो गई, ऐसे में कोरोना नियमों का पालन भी करना जरूरी है। यही वजह है कि पारसी समाज के लोगों ने यह निर्णय लिया है। पारसी समाज के लोग अग्नि को अति पवित्र मानते हैं, लेकिन उन्होंने बताया है कि समय के अनुसार परिवर्तन जरूरी है और लोगों को किसी तरह की तकलीफ ना हो इस वजह से उन्होंने अब शव को अग्निदाह करने का फैसला किया है। 
... और पढ़ें

आलोचना: गुजराती लेखिका ने लिखी गंगा में उतराते शवों पर कविता, साहित्य अकादमी ने कहा- साहित्यिक नक्सली

कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने देश में जमकर तबाही मचाई। इसने लाखों लोगों की जिंदगियां लील ली। स्थिति इतनी विकराल हो गई थी कि शमशान घाटों में शवों का दाह संस्कार करने के लिए लोगों को कई-कई घंटों का इंतजार करना पड़ता था। इस दौरान, गंगा में उतराते सैकड़ों शव मिले, जिन्हें लेकर सरकार की जमकर आलोचना हुई।

गंगा नदी में कोरोना मरीजों के उतराते शवों को लेकर हाल ही में गुजरात की एक कवयित्री पारुल खाखर ने एक कविता लिखी। इस कविता के लिए गुजरात में तमाम लोगों ने पारुल की आलोचना की है। गुजरात साहित्य अकादमी ने पारुल को साहित्यिक नक्सली बताया है। 

कविता को माना केंद्र के खिलाफ दुष्प्रचार 
गुजरात की कवयित्री पारुल खाखर ने हाल ही में केंद्र की आलोचना करते हुए अपनी कविता गंगा शव वाहिनी लिखी थी। इस कविता को केंद्र सरकार के खिलाफ दुष्प्रचार करने के हथियार के रूप में बताते हुए कहा कि तमाम लोगों ने इसका विरोध किया था।

साहित्य अकादमी ने कहा- लोकतंत्र पर लांछन लगाया
गुजरात में साहित्य अकादमी ने इस कविता की निंदा करते हुए पारुल खाखर को साहित्यिक नक्सली बताया। पारुल की कविता पर निशाना साधते हुए अकादमी ने कहा कि इस कविता के जरिये समाज में आराजकता फैलाने का प्रयास किया गया है। ये व्यर्थ का आक्रोश है और इससे लोकतंतत्र और समाज पर लांछन लगाने का काम किया गया है।

बता दें कि कोरोना की दूसरी लहर के कहर के बीच बिहार से लेकर उत्तर प्रदेश के तमाम इलाकों में गंगा नदी में शवों के उतराने की तस्वीरें सामने आईं थीं। वहीं प्रयागराज, उन्नाव और कुछ अन्य जिलों में रेत में शवों के दफनाने के मामले में उजागर हुए थे। कोविड मरीजों के साथ अमानवीयता का आरोप लगाते हुए विपक्ष ने सरकार को घेरा था। इसे लेकर देश के तमाम हिस्सों में विरोध के स्वर उठे थे।
... और पढ़ें
पारुख खाखर पारुख खाखर

धर्म परिवर्तन रोधी कानून: गुजरात में पहली गिरफ्तारी, मुस्लिम युवक ने खुद को ईसाई बताकर रचाया विवाह

गुजरात पुलिस ने जबरन या धोखाधड़ी कर धर्म परिवर्तन कराने के विरूद्ध हाल ही में लागू नए कानून के तहत पहली प्राथमिकी दर्ज कर वडोदरा के 26 वर्षीय युवक को गिरफ्तार किया है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। आरोपी मुस्लिम युवक है और उसने खुद को ईसाई बताकर युवती को झांसा दिया। उसे प्रेमजाल में फंसाया और विवाह रचा लिया। 

शिकायत के अनुसार वडोदरा में गोत्री पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज की और समीर कुरैशी नाम के व्यक्ति को गुजरात धर्म की स्वतंत्रता (संशोधन) अधिनियम, 2021 के तहत गिरफ्तार किया। इस कानून के तहत शादी के जरिए जबरन धर्म परिवर्तन पर कड़ी सजा का प्रावधान है।

समीर ने अपना सैम मार्टिन बताया था
पुलिस उपायुक्त-जोन 2 (वडोदरा शहर) जयराज सिंह ने बताया कि आरोपी समीर कुरैशी अपने पिता के साथ दुकान चलाता है। उस पर आरोप है कि उसने खुद को ईसाई बताकर दूसरे धर्म की महिला को अपने जाल में फंसा लिया। उसने सोशल मीडिया पर 2019 में महिला को अपना नाम सैम मार्टिन बताया था।

ब्लैकमेल कर शादी की, गर्भपात के लिए मजबूर किया
उपायुक्त ने संवाददाताओं को बताया कि शिकायतकर्ता के अनुसार, कुरैशी ने सोशल मीडिया पर अपनी फर्जी पहचान के जरिए महिला को प्रेम के नाम पर फंसा लिया और उससे दुष्कर्म किया। आरोपी ने इसके बाद महिला की आपत्तिजनक तस्वीरों के जरिए उसे ब्लैकमेल कर जबरन शादी कर ली। उसने अपने संबंध के दौरान महिला को गर्भपात के लिए भी मजबूर किया था।

निकाह का कार्यक्रम हुआ तब पता चला
अधिकारी ने बताया कि महिला को उस समय उसके धर्म का पता चला जब उसने शादी के लिए हामी भरी लेकिन फिर पाया कि शादी ईसाई धर्म के रीति-रिवाज के अनुसार नहीं हो रही था और इसकी जगह निकाह का आयोजन हुआ। शादी के बाद आरोपी ने पहले तो उसका नाम बदल दिया और फिर उसे धर्म बदलने को मजबूर करने लगा। आरोपी पीड़ित को जातिसूचक गालियां भी देता था।
... और पढ़ें

गुजरात:  एफडीसीए ने 1.5 करोड़ कीमत की 24363 गर्भपात किट जब्त की, आठ लोग गिरफ्तार 

गुजरात में खाद्य एवं औषधि नियंत्रण प्रशासन (एफडीसीए) ने 24,363 गर्भपात किट जब्त की। इनकी कीमत करीब 1.50 करोड़ रुपये है। इसके अलावा मादक और नशीली पदार्थ भी बरामद किया गया। इन सामानों को गैर कानूनी तरीके से बेचने के आरोप में आठ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

एफडीसीए आयुक्त हेमंत कोशिया ने बताया कि इन लोगों को अहमदाबाद और सूरत में विभिन्न जगहों से पकड़ा गया। सभी के खिलाफ औषधि एवं प्रसाधन सामग्री अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया है जबकि एक व्यक्ति को गुजरात पुलिस ने मादक पदार्थ मिलने के बाद एनडीपीएस अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया। उन्होंने बताया कि चिकित्सकीय गर्भपात अधिनियम के तहत गर्भपात किट स्त्री रोग विशेषज्ञ की अनुशंसा पर ही बेची जा सकती है।

एफडीसीए ने बताया कि आरोपियों में से एक अहमदाबाद निवासी पिंटू शाह गर्भपात किट, एक अन्य आरोपी व बनासकांठा के दीसा में वितरक विनोद माहेश्वरी और लोकेश माहेश्वरी से गैर कानूनी तरीके से खरीदता था और उन्हें बिना डॉक्टर की पर्ची के ऑनलाइन बेचता था। शाह ने गत डेढ़ साल में करीब 800 ऐसे किट की बिक्री ऑनलाइन की है।

दीसा के रहने वाले माहेश्वरी को ये किट फर्जी चिकित्सा पर्ची के आधार पर सूरत के जावेरी सांगला से मिलते थे। सांगला को भी ये किट आरोपी राजेश यादव से मिलते थे जो मुंबई की विपणन कंपनी में सेल्स मैनेजर है। एफडीसीए के मुताबिक अन्य आरोपी की पहचान नीलय वोरा के तौर पर की गई है जो मुंबई में विपणन प्रतिनिधि है। वहीं अन्य आरोपी विपुल पटेल और मोनीश पंचाल है जिनके पास से ऐसे 700 किट मिले हैं। 

एक अन्य आरोपी तुषार ठक्कर के पास से मादक पदार्थ मिले हैं जिसे पुलिस को सौंप दिया गया है। उसे एनडीपीएस अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया है। अधिकारी ने बताया कि ऑक्सीटोसिन इंजेक्शन के तीन लाख वायल और बिना लेबल के अन्य इंजेक्शन भी ठक्कर के पास से बरामद किए गए।

ऑक्सीटोसिन इंजेक्शनों को जांच के लिए वडोडरा स्थित एफडीसीए लैबोरेटरी भेजे गए हैं। उसके पास से अल्प्राकैन 0.5 टैबलेट (अल्प्राजोलम युक्त), एडिटैक्स एन-2 टैबलेट (ब्यूप्रेनोर्फिन और नालोक्सोन युक्त) और एसपीएएस-ट्रैंकन टैबलेट (ट्रामाडोल युक्त) भी जब्त की। ये भी बिना लाइसेंस के बेची जा रही थी। ये ड्रग ठक्कर को राजस्थान से मिली थी। एफडीसीए इस एंगल से मामले की जांच कर रही है।
... और पढ़ें

बैंक धोखाधड़ी: 134 करोड़ के घोटाले में गुजरात की यूनियन बैंक ऑफ इंडिया कंपनी के खिलाफ एफआईआर दर्ज

सीबीआई ने शुक्रवार को गुजरात की एक कंपनी और इसके निदेशकों के खिलाफ यूनियन बैंक ऑफ इंडिया से 134.34 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी मामले में एफआईआर दर्ज की। जांच एजेंसी ने मुंबई में छह जगहों पर छापा मारकर अहम दस्तावेज भी बरामद किए।

एजेंसी ने बताया कि गुजरात के कच्छ में गांधीधाम स्थित एसोसिएट हाई प्रेशर टेक्नोलॉजी प्राइवेट लिमिटेड, इसके निदेशकों रामचंद के इसरानी, मोहम्मद फारूक सुलेमान दरवेश, श्रीचंद सत्रमादास अगीचा, इब्राहिम सुलेमान दरवेश और अज्ञात सरकारी कर्मचारियों तथा अन्य के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई।

सरकारी बैंक द्वारा दी गई शिकायत के अनुसार, कंपनी ने बैंक द्वारा दिए गए लोन का दुरुपयोग किया और अन्य बैंकिंग चैनलों के जरिए पैसा अन्य जगह हस्तांतरित किया जोकि यूनियन बैंक द्वारा लोन मंजूर करने के लिए तय शर्तों का उल्लंघन है।
... और पढ़ें

माध्यमिक शिक्षा बोर्ड: मध्यप्रदेश और गुजरात ने 12वीं की परीक्षाएं रद्द करने का किया एलान

यूनियन बैंक
कोरोना महामारी के मद्देनजर विद्यार्थियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते बुधवार को गुजरात सरकार ने माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की 12वीं की परीक्षाएं रद्द कर दीं। वहीं, मध्यप्रदेश ने भी मध्यप्रदेश बोर्ड की 12वीं की परीक्षाएं रद्द करने का एलान किया है।

बता दें, केंद्र की ओर से केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) और भारतीय विद्यालय प्रमाणपत्र परीक्षा परिषद (सीआईसीएसई) की 12वीं की परीक्षाएं रद्द करने के फैसले के बाद अब राज्य सरकारों में भी बोर्ड परीक्षाओं पर मंथन शुरू हो गया है। इसबीच, पश्चिम बंगाल में इस पर मंथन जारी है।

गुजरात सरकार ने हाल ही में घोषणा की थी कि 12वीं परीक्षाएं कोविड प्रोटोकॉल के बीच 1 जुलाई से होगी। गांधीनगर में कैबिनेट की बैठक के बाद राज्य के शिक्षामंत्री भूपेंद्र सिंह चूड़ासमा ने कहा, कोरोना महामारी के मद्देनजर गुजरात माध्यमिक उच्च शिक्षा बोर्ड ने 12वीं की परीक्षाएं रद्द कर दी हैं। केंद्र के सीबीएसई 12वीं की परीक्षा रद्द किए जाने के फैसले को ध्यान में रखकर ही यह निर्णय लिया गया है। राज्य में करीब  सात लाख विद्यार्थी परीक्षा में बैठने वाले थे।

इधर, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि विद्यार्थियों के स्वास्थ्य की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस साल 12वीं की परीक्षा रद्द किए जाने का निर्णय लिया गया है। राज्य सरकार ने दसवीं की परीक्षा पहले ही रद्द कर दी है। मुख्यमंत्री ने एक वीडियो जारी कर कहा कि विद्यार्थियों का स्वास्थ्य हमारे लिए कीमती है। कैरियर पर हम बाद में ध्यान दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान बच्चों पर मानसिक दबाव बनाना उचित नहीं है।
... और पढ़ें

गुजरात : भूतपूर्व कच्छ राज्य के महाराज प्रगमालजी तृतीय की कोरोना से मौत

गुजरात: हाईकोर्ट ने कहा- ब्लैक फंगस पर राज्य सरकार की अधिसूचना अस्पष्ट और त्रुटिपूर्ण

गुजरात में ब्लैक फंगस की भयावहता के मद्देनजर सरकार की व्यवस्था पर सवाल उठाते हुए गुजरात हाईकोर्ट ने दवा के वितरण पर जारी अधिसूचना को अस्पष्ट और त्रुटिपूर्ण बताया।

कोर्ट ने बुधवार को कहा कि सभी जिले की अपनी विशेषज्ञ कमेटी होनी चाहिए जो यह तय करे कि उन्हें कितनी दवा की आवश्यकता है। बता दें, ब्लैक फंगस (म्यूकोरमाइकोसिस) के मामले देश के कई राज्यों में सामने आए हैं, लेकिन गुजरात में इसके मरीज सबसे अधिक हैं।

केंद्रीय मंत्री डीवी सदानंद गौड़ा ने बुधवार को बताया कि ब्लैग फंगस के मरीज सबसे अधिक गुजरात में हैं। न्यायमूर्ति बेला त्रिवेदी और भार्गव डी कारिया की पीठ ने कहा कि गुजरात सरकार को एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन के वितरण पर स्पष्ट बताना चाहिए कि सरकारी, गैर सरकारी अस्पतालों में कहां कितने मरीज हैं और उन्हें कितनी दवाएं दी गईं।

जनहित याचिका पर स्वत: संज्ञान लेते हुए कोर्ट ने कहा कि इसके अलावा भी विशेषज्ञ कमेटी के गठन और किसके निर्णय पर मरीज को गंभीर मानते हुए दवा दी जाएगी, पर अधिक विवरण की जरूरत है। कोर्ट ने कहा कि 19 मई की अधिसूचना के मुताबिक सिर्फ 7 जिलों को ही शामिल किया गया है। कोर्ट ने इस बात पर आश्चर्य जताया कि केंद्र की ओर से मिली दवाओं को आखिर किस आधार पर सरकारी, निजी अस्पतालों और निगम के अस्पतालों में भर्ती मरीजों को दिया जाएगा।

बंगाल सरकार ने ब्लैक फंगस को अधिसूचित रोग घोषित किया
पश्चिम बंगाल सरकार ने हालात की गंभीरता और स्वास्थ्य मंत्रालय की सलाह के बाद ब्लैक फंगस को ‘अधिसूचित रोग’ घोषित कर दिया। एक अधिकारी ने मंगलवार को इसकी जानकारी दी। अधिकारी ने स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आदेश का हवाला देते हुए कहा कि डॉक्टरों के लिए म्यूकोरमाइकोसिस का पुष्ट या संदिग्ध मामला सामने आने पर अधिकारियों को इसकी जानकारी देना अनिवार्य कर दिया गया है।

आदेश में कहा गया है कि इसके तहत रोगी की निजी जानकारी समेत सभी संबंधित जानकारियों को साझा किया जाना जरूरी है। राज्य में ब्लैक फंगस के चलते अब तक दो लोगों की मौत हो चुकी है। सोमवार तक 10 लोग संक्रमित पाए गए थे, जिनका इलाज चल रहा था।
... और पढ़ें

अमेरिकी रक्षा विभाग: द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान लापता हुए 400 सैनिकों की गुजरात में करेगा तलाश

अमेरिका के रक्षा विभाग ने द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान भारत में लापता हुए अपने 400 से अधिक सैनिकों के अवशेषों को खोजने के प्रयास तेज कर दिए हैं, जिसके लिए उसने गांधीनगर स्थित राष्ट्रीय फोरेंसिक विज्ञान विश्वविद्यालय (एनएफएसयू) के साथ हाथ मिलाया है।

एनएफएसयू के विशेषज्ञ अमेरिका के रक्षा विभाग के तहत काम करने वाले एक अन्य संगठन डीपीएए की मदद करेंगे। डीपीएए ऐसा संगठन है जोकि युद्ध के दौरान लापता और बंदी बनाए गए सैनिकों का लेखा-जोखा रखता है।

एनएफएसयू में डीपीएए की मिशन परियोजना प्रबंधक डॉ गार्गी जानी ने कहा, अमेरिका के लापता सैनिकों के अवशेषों को खोजने में हर संभव मदद की जाएगी। डॉ गार्गी ने कहा कि एजेंसी की टीमें द्वितीय विश्व युद्ध, कोरियाई युद्ध, वियतनाम युद्ध, शीत युद्ध और इराक और फारस के खाड़ी युद्धों सहित अमेरिका के पिछले संघर्षों के दौरान लापता हुए सैनिकों के अवशेषों का पता लगाकर उनकी पहचान कर उन्हें वापस लाने की कोशिश करेंगी।

उन्होंने कहा, द्वितीय विश्व युद्ध, कोरियाई युद्ध, वियतनाम युद्ध और शीत युद्ध के दौरान अमेरिका के 81,800 सैनिक लापता हुए हैं, जिनमें से 400 भारत में लापता हुए थे। डॉ गार्गी ने कहा कि एनएफएसयू डीपीएए को उनके मिशन में वैज्ञानिक और लॉजिस्टिक रूप से हर संभव मदद करेगा।
... और पढ़ें

बोर्ड परीक्षा 2021 : गुजरात सरकार का बड़ा एलान, 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं एक जुलाई से होंगी

देशभर में कोरोना महामारी के बढ़ते मामलों के कारण बोर्ड परीक्षाओं के आयोजन को लेकर बढ़ती गहमागहमी के बीच, गुजरात सरकार ने बड़ी घोषणा की है। सरकार की योजना के अनुसार, गुजरात में गुजरात बोर्ड की ओर से मौजूदा प्रणाली के अनुसार ही कक्षा 12वीं की परीक्षाएं आयोजित की जाएंगी।

गुजरात के शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूड़ास्मा ने बताया कि विज्ञान, कला और वाणिज्य संकाय की परीक्षाएं एक जुलाई, 2021 से शुरू होंगी। चूड़ास्मा ने कहा कि विज्ञान संकाय पार्ट-1 की प्रश्न पत्र एमसीक्यू यानी बहुवैकल्पिक प्रश्न-उत्तर पर आधारित होंगे। जबकि पार्ट-2 की परीक्षा में डिस्क्रिप्टिव प्रश्न पूछे जाएंगे।  वहीं, अन्य संकाय यानी कला और वाणिज्य की परीक्षाओं में पेपर डिस्क्रिप्टिव आधार पर ही होंगे।
 
... और पढ़ें

एसएसए भर्ती : समग्र शिक्षा अभियान के तहत स्नातकों के लिए यहां निकलीं बंपर नौकरियां

सरकारी नौकरी चाहने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। गुजरात में सरकारी भर्ती निकली है। यहां राज्य सरकार की ओर से समग्र शिक्षा अभियान यानी (SSA), गुजरात शिक्षक भर्ती 2021 के तहत अनुबंध के आधार पर स्कूल शिक्षकों के 252 पदों के लिए अधिसूचना जारी की गई है। 
समग्र शिक्षा अभियान ने 19 मई 2021 को अपनी आधिकारिक वेबसाइट
samagrashiksha.ssagujarat.org पर एक आधिकारिक अधिसूचना के माध्यम से स्कूल शिक्षक के लिए 252 रिक्त पदों पर भर्ती की घोषणा की है। शिक्षकों की भर्ती 11 महीने की अवधि के लिए अनुबंध के आधार पर की जाएगी। शिक्षकों की यह भर्ती छठी से आठवीं कक्षा के लिए की जाएगी। 
इनमें गणित विज्ञान, भाषा और सामाजिक विज्ञान विषय के शिक्षकों के पदों पर नियुक्तियां दी जाएंगी। इच्छुक उम्मीदवार जो पात्रता मानदंड के अनुसार योग्य हैं और नौकरी प्रोफाइल को उपयुक्त समझते हैं, वे 31 मई, 2021 से पहले नीचे दिए गए लिंक से ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। विषयवार रिक्तियों की संख्या खबर में आगे दी गई।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us